Aadinath Bhagwan ki Aarti | आदिनाथ भगवान आरती |

आरती उतारूँ आदिनाथ भगवान की

माता मरुदेवि पिता नाभिराय लाल की

रोम रोम पुलकित होता देख मूरत आपकी

आरती हो बाबा, आरती हो,

प्रभुजी हमसब उतारें थारी आरती

तुम धर्म ुरन्धर धारी, तुम ऋषभ प्रभु अवतारी

तुम तीन लोक के स्वामी, तुम गुण अनंत सुखकारी

इस युग के प्रथम विधाता, तुम मोक्ष मार्म के दाता

जो शरण तुम्हारी आता, वो भव सागर तिर जाता

हे… नाम हे हजारों ही गुण गान की…

तुम ज्ञान की ज्योति जमाए, तुम शिव मारग बतलाए

तुम आठो करम नशाए, तुम सिद्ध परम पद पाये

मैं मंगल दीप सजाऊँ, मैं जगमग ज्योति जलाऊँ

मैं तुम चरणों में आऊँ, मैं भक्ति में रम जाऊँ

हे झूमझूमझूम नाचूँ करुँ आरती

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535