Parshvnath Bhagvan Aarti | पार्श्वनाथ भगवान आरती |

मैं तो आरती ऊतारूँ रे, पारस प्रभुजी की,

जय-जय पारस प्रभु जय-जय नाथ॥

बड़ी ममता माया दुलार प्रभुजी चरणों में

बड़ी करुणा है, बड़ा प्यार प्रभुजी की आँखों में,

गीत गाऊँ झूम-झूम, झम-झमा झम झूम-झूम,

भक्ति निहारूँ रे, ओ प्यारा-प्यारा जीवन सुधारूँ रे।

मैं तो आरती ऊतारूँ रे, पारस प्रभुजी की॥

सदा होती है जय जयकार प्रभुजी के मंदिर में … (२)

नित साजों की होर झंकार प्रभुजी के मंदिर में … (२)

नृत्य करूँ, गीत गाऊँ, प्रेम सहित भक्ति करूँ,

कर्म जलाऊँ रे, ओ मैं तो कर्म जलाऊँ रे,

मैं तो आरती ऊतारूँ रे, पारस प्रभुजी की॥

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535