Shri Ajitnath Chalisa ।।श्री अजितनाथ चालीसा ।।

श्री आदिनाथ को शिश नवा कर, माता सरस्वती को ध्याय ।

शुरू करूँ श्री अजितनाथ का, चालीसास्व – सुखदाय ।।

जय श्री अजितनाथ जिनराज । पावन चिह्न धरे गजराज ।।

नगर अयोध्या करते राज । जितराज नामक महाराज ।।

विजयसेना उनकी महारानी । देखे सोलह स्वप्न ललामी ।।

दिव्य विमान विजय से चयकर । जननी उदर बसे प्रभु आकर ।।

शुक्ला दशमी माघ मास की । जन्म जयन्ती अजित नाथ की ।।

इन्द्र प्रभु को शीशधार कर । गए सुमेरू हर्षित हो कर ।।

नीर शीर सागर से लाकर । न्हवन करें भक्ति में भरकर ।।

वस्त्राभूषण दिव्य पहनाए । वापस लोट अयोध्या आए ।।

अजित नाथ की शोभा न्यारी । वर्ण स्वर्ण सम कान्तिधारी ।।

बीता बचपन जब हितकारी । हुआ ब्याह तब मंगलकारी ।।

कर्मबन्ध नही हो भोगो में । अन्तदृष्टि थी योगो में ।।

चंचल चपला देखी नभ में । हुआ वैराग्य निरन्तर मन में ।।

राजपाट निज सुत को देकर । हुए दिगम्बर दीक्षा लेकर ।।

छः दिन बाद हुआ आहार । करे श्रेष्ठि ब्रह्मा सत्कार ।।

किये पंच अचरज देवो ने । पुण्योपार्जन किया सभी ने ।।

बारह वर्ष तपस्या कीनी । दिव्यज्ञान की सिद्धि नवीनी ।।

धनपति ने इन्द्राज्ञा पाकर । रच दिया समोशरण हर्षाकर ।।

सभा विशाल लगी जिनवर की । दिव्यध्वनि खिरती प्रभुवर की ।।

वाद विवाद मिटाने हेतु । अनेकांत का बाँधा सेतु ।।

है सापेक्ष यहा सब तत्व । अन्योन्याश्रित है उन सत्व ।।

सब जिवो में है जो आतम । वे भी हो सक्ते शुद्धात्म ।।

ध्यान अग्नि का ताप मिले जब । केवल ज्ञान की की ज्योति जले तब ।।

मोक्ष मार्ग तो बहुत सरल है । लेकिन राहीहुए विरल है ।।

हीरा तो सब ले नही पावे । सब्जी भाजी भीङ धरावे ।।

दिव्यध्वनि सुन कर जिनवर की । खिली कली जन जन के मन की ।।

प्राप्ति कर सम्यग्दर्शन की । बगिया महकी भव्य जनो की ।।

हिंसक पशु भी समता धारे । जन्म जन्म का का वैर निवारे ।।

पूर्ण प्रभावना हुई धर्म की । भावना शुद्ध हुई भविजन की ।।

दुर दुर तक हुआ विहार । सदाचार का हुआ प्रचार ।।

एक माह की उम्र रही जब । गए शिखर सम्मेद प्रभु तब ।।

अखण्ङ मौन मुद्रा की धारण । कर्म अघाती हेतु निवारण ।।

शुक्ल ध्यान का हुआ प्रताप । लोक शिखर पर पहुँचे आप ।।

सिद्धवर कुट की भारी महिमा । गाते सब प्रभु के गुण – गरिमा ।।

विजित किए श्री अजित ने । अष्ट कर्म बलवान ।।

निहित आत्मगुण अमित है , अरूणा सुख की खान ।।

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535