स्वादिष्ट स्पंजी आलू का रसगुल्ला:

By: Ashish Sarabhai

कई लोग बाजार से मंगाई मिठाइयां ही महमानों को यह सोंच कर खिलाते हैं कि उनके पास तो मिठाई बनाने का समय ही नहीं है।
पर ऐसा न करें क्योंकि बाजार में मिलने वाली मिठाई तो आप और आपके परिवार वाले खाते ही होंगे,जिसमें की खूब सारा मिलावटी समान मिला होता है। मिलावटी मिठाइयां खाने से बीमारी हो जाती है इसलिये अच्छा होगा कि आप अपने घर पर ही आलू के रसगुल्ले बना डालिये।
रसगुल्ला और रसगुल्ले सभी को बहुत पसंद होते हैं क्योंकि यह बहुत हल्के होते हैं. वैसे तो बंगाली मिठाई पूरे भारत में बहुत लोकप्रिय हैं, लेकिन रसगुल्ला इसका तो कोई तोड़ ही नही है. अच्छे रसगुल्ले एकदम मुलायम होते हैं और मुँह में रखते ही घुल जाते हैं.
यह विधि एकदम पारंपरिक बंगाली विधि है जिसे मुझे मेरे एक बंगाली दोस्त बाबू मुखर्जी ने बनाना सिखाया है. मैं बाबू का बहुत शुक्रगुज़ार हूँ जिसने मुझे लंच पर बुलाया और ना केवल स्वादिष्ट खाना खिलाया बल्कि यह स्वादिष्ट स्पंजी आलू रसगुल्ले भी बनाना बताए.
आलू के रसगुल्ले बनाना बहुत ही आसान है और इसमें छेने की बजाए आलू का उपयोग होता है।
सबसे पहले आलुओं को उबाल लिया जाता है और फिर घिस कर उसकी गोलियां बनाइ जाती हैं।
फिर इसी प्रकार से रसगुल्ले बनाये जाते हैं।
आइये जानते हैं इसके आगे की विधि

सामग्री:

आलू -आधा किलो
खोवा- आधा किलो
किशमिश- 2 चॅम्मच
हरी इलायची- 1 चम्मच पाउडर
चीनी- स्वादअनुसार
पानी- आवश्यकता अनुसार
घी- तलने के लिये
मलाई- 1 कप
मैदा- 2 चम्मच

विधि:
सबसे पहले आलुओं को धो कर कुकर में उबाले। उबालने के बाद छील कर कस लें।
इसमें कटे हुए मेवे व खोवा मिलाएं।
अब मिश्रण की छोटी छोटी गोलियो बनाएं।
आग के ऊपर पानी रखें। चीनी डाल कर दो तार की चाश्नी तैयार करें।
कड़ाही में घी गरम करें।आलू की गोली घी में तलें।
सुनहरा होने तक 10 मिनट के लिये चाशनी में डुबों दें।
फिर बाहर निकाल कर, प्लेट में डाल कर गोलियों के ऊपर मलाई लगाकर गरम या ठंडा सर्व करें।
आशा है आपको भी यह व्यंजन विधि पसंद आए. अपनी राय ज़रूर लिखिएगा.

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535