श्री जिनराज की आरती – Aarti Shri Jinraaj ki

आरती श्री जिनराज तिहारी, करम दलन संतन हितकारी||
सुर-नर-असुर करत तुम सेवा, तुम्ही सब देवन के देवा|
आरती श्री जिनराज तिहारी, करम दलन संतन हितकारी||
पंच महाव्रत दुद्धर धारे, राग दोष परिणाम विदारे|
आरती श्री जिनराज तिहारी, करम दलन संतन हितकारी||
भव भय भीत शरण जे आये, ते परमार्थ पंथ लगाये
आरती श्री जिनराज तिहारी, करम दलन संतन हितकारी||
जो तुम नाम जपे मनमाहीं, जनम-मरण भय ताको नाही|
आरती श्री जिनराज तिहारी, करम दलन संतन हितकारी||
समवशरण सम्पूरण शोभा, जीते क्रोध मान छल लोभा|
आरती श्री जिनराज तिहारी, करम दलन संतन हितकारी||
तुम गुण हम कैसे करि गावें, गणधर कहत पार नहीं पावें|
आरती श्री जिनराज तिहारी, करम दलन संतन हितकारी||
करुणासागर करुणा कीजे, द्यानत सेवक को सुख दीजे|
आरती श्री जिनराज तिहारी, करम दलन संतन हितकारी||

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535