विसर्जन पाठ (हिन्दी) – Visarjan Paath (Hindi)

बिन जाने या जान के, रही टूट जो कोय |
तुम प्रसाद से परम गुरु, सो सब पूरन होय ||

पूजन विधि जानूँ नहीं, नहिं जानूँ आह्वान |
और विसर्जन भी नहीं, क्षमा करो भगवान् ||

मंत्र-हीन धन-हीन हूँ, क्रिया-हीन जिनदेव |
क्षमा करहु राखहु मुझे, देहु चरण की सेव ||

श्रद्धा से आराध्य पद पूजे भक्ति प्रमाण |
पूजा विसर्जन मैं करूँ, सदा करो कल्याण ||
(इसके पश्चात् खड़े होकर आरती करें)

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535