Mahuaji, Gujarat

श्री १००८ विग्न्हर पार्श्वनाथ महुआ (गुजरात), सूरत जिले के अर्न्तगत नवसारी से ३० किलोमीटर एवं बारडोली से १० किलोमीटर की दुरी पर पूर्ण नदी के तट पर स्थित हैं, यहाँ लगभग १००० वर्ष पुराना मंदिर हैं जो यहाँ के लकडी के खम्भों के लेख से ज्ञात होता हैं, भगवन विग्न्हर पार्श्वनाथ की ४ फ़ुट ऊँची एवं सप्त्फनी वाली प्रतिमा वेल्लूर के श्याम वर्ण खुरदरे पत्थर से बनी हैं, प्रतिमा के एक ओर भगवान चंद्रप्रभु के एवं दूसरी ओर श्वेत वर्ण भगवान शांतिनाथ की प्रतिमा विराजमान हैं.

In ancient times, this temple was famous as. Shri 1008 Bhagvan Chandra-Prabhu Digamber Jain Mandir and this village was called Madhupuri. Script carved on wooden pillars of temple shows that this kshetra is more than 1000 years old. This temple was reconstructed in V. S. 1625 & 1827. Magnificent and large building of temple shows that 1000 years ago, there lived a huge population of Jains in this area.

Shri Vighn-har Parshv Nath (Atishaya Kshetra) Digamber Jain Mandir is situated at the bank of Poorna river, opposite to Pavagarh, Taranga, Gajpantha, Girnar etc. kshetras situated at hills in Gujarat.

How to reach:

Busses and taxies are available from Surat city.
Railway Station – Surat
Airport – Ahmedabad

Nearby places:

Mangi-Tungi Siddh Kshetra 195 K. M.
Gajpantha Siddh Kshetra 180 k.M.

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535