Palitana, Gujarat

पालीताना के मंदिर जैन मतावलंबियों के लिए सबसे पवित्र तीर्थस्थानों में से एक हैं। इन्हें दुनिया का सबसे बड़ा मंदिर परिसर भी कहा जाता है। गुजरात के भावनगर जिले में पालीताना शहर के पास स्थित शत्रुंजय पहाडि़यों पर इस परिसर में संगमरमर के बने बेहद खूबसूरत नक्काशीदार छोटे-बड़े तीन हजार से ज्यादा मंदिर हैं। इसीलिए इन्हें शत्रुंजय तीर्थ और सिद्धक्षेत्र भी कहा जाता है। सबसे ऊपर पहाड़ी के शिखर पर पहले जैन तीर्थंकर आदिनाथ का मंदिर है। ये मंदिर अलग-अलग काल में 11वीं सदी के बाद से नौ सौ साल में बने हैं। हाल ही में की गई गिनती के अनुसार, इस पहाड़ी पर नीचे से ऊपर तक कुल 27 हजार जैन मूर्तियां स्थापित हैं। शत्रुंजय पहाड़ी पर चढ़ने के लिए साढ़े तीन हजार से ज्यादा सीढि़यां हैं। हर जैन मतावलंबी अपने जीवनकाल में एक बार पालीताना जाकर इन मंदिरों के दर्शन करने की कामना जरूर रखता है। इन मंदिरों का शिल्प बेहद बारीक और सजावट बेहद भव्य है।

Most of the temples are named after the wealthy patrons who paid for the construction. There are frequent renovations and new temples continue to be built here.

The Adinath Temple is the grandest and the main temple in the complex and is dedicated to Adinath or Rishabdev the first Tirthankar. It has ornate architectural motifs with a large jewellery collection. There are a series of domes with high spires with prayer halls and a balcony giving a scenic view of the temple complex. There are three Pradakshina routes associated with this temple. The image carved in fine marble is 7ft 1 inch in height and has crystal eyes.

The Adishvara Temple was built in the 16th century and its main image is that of Rishabhdeva. In front is the temple of Pundarik Swami. There is a Jal Mandir with an idol of Lord Adishvar standing in deep meditation. There are other temples like the Chaumukh temple, Vimal Shah, Samavasaran with 108 life sketches in sculpture. The Dilwara temple has the image of Suparshvanath, Adinath and Parshvanath in the different layers of the column. In front of this is the Parshvanath temple. There is a mini Shatrunjaya with nine peaks. It is said that pilgrims who cannot climb the mountain can bow down here. The temple of Saraswati Devi near the Samavasaran temple was installed in 1860 and school going children are brought here to pray to the beautiful idol of the Goddess on the swan to help them in their education. Besides these there are a number of Tunks and temples leading up to the summit.

How to reach:

By road: Bhavnagar is 56 km away and Ahmedabad, 215 km. Private and ST buses travel to Palitana from both of these cities as well as from several others around Gujarat and even from Mumbai.
By rail: Palitana is on a rail branch line, with trains available to Bhavnagar, Ahmedabad and intermediate points.
By air: The nearest airport is in Bhavnagar (56 km).

Nearby Places:

Songarh 24 km
Ghogha 60 km
Girnar 170 km

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535