Ranila, Haryana

अश्‍विन मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को दशहरा पर्व के शुभ दिवस पर 18 अक्तूबर, 1991 को अतिशय हुआ। गांव रानीला का रणजीत नाम का एक जाट किसान जब किसी के खेत में कस्सी से काम कर रहा था कि टीले की रेत में किसी कठोर वस्तु के दबे होने का उसे एहसास हुआ। सहसा ही उसके हाथ कांपने लगे, रणजीत ने अपने हाथों से कस्सी को छोड़कर रेत को कुरेदना प्रारम्भ किया ही था कि कुछ ही क्षणों में उसे एक सुन्दर पाषाण की शिला दिखाई दी और उसने उस शिला को बाहर निकाल लिया। वास्तव में यह शिला न होकर आद्यप्रणेता युग प्रथम तीर्थंकर भगवान आदिनाथ की प्रतिमा थी – परन्तु रणजीत को इस बात का ज्ञान न था। चन्दन रंग की इस भव्य शिला पर प्रथम तीर्थंकर मूलनायक श्री 1008 भगवान आदिनाथ की अतिशय युक्‍त प्रतिमा तथा शिला के तीनों ओर तेइस तीर्थंकरों की अष्ट प्रतिहार्य एवं यक्ष-यक्षिणी सहित उत्कीर्ण तथा साथ ही माता चक्रेश्‍वेरी देवी की अति सुन्दर कला युक्त प्रतिमा वहां से प्राप्त हुई।

प्रतिमा के चुम्बकीय प्रभाव से श्रद्धालु रानीला की ओर खिंचते चले आते है, उनकी मनोकामनाएं पूरी होने लगी। जैन तथा अजैन सभी श्रद्धालु इस क्षेत्र से जुड़ते चले गए। फलस्वरूप इस निर्जन क्षेत्र का विकास होने लगा तथा कम समय में हीं यहाँ एक विशाल भव्य त्रिकूट जिनालय का निर्माण हो गया।

An idol of Bhagwan Adinatha with other 23 Tirthankars carved on it was found during the land excavation process at this place on 18-10-1991. An idol of Goddess Chakreshwari Devi is also found here. The Tirth is under development under Sri Adinath Digambar Jain Tirth Kshetra committee.

How to reach:

By Bus:  Sanjarwas -4km, Charkhi Dadri -18km
By Train: Upto Charkhi Dadri, 18km from Charkhi Dadri by road. Charkhi Dadri is 135km from Delhi via Rewari and 30km from Bhiwani
By Air: Delhi International Airport 125km

Nearby Places:

Bhiwani -26km,

Rohtak -45km

Ph. 9811082838

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535