MoraJhadi, Ajmer, Rajasthan

श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन अतिशय क्षेत्र मोराजड़ी, अजमेर, राजस्थान, यह क्षेत्र राजस्थान के अजमेर जिले से वाया नसीराबाद होते हुए ४५ किलोमीटर एवं किशन गढ़ से वाया श्रीनगर होते हुए ४६ किलोमीटर दूर हैं. बीजोलिया अभिलेख में उल्लेखानुसार कासल्देव के पुत्र पृथ्वीराज द्वितीय ने जैन मंदिर के लिए मोरकुटी (मोरज्ड़ी) ग्राम दान दिया, जिसे १७०४ में छोटे मंदिर का भव्य स्वरुप दिया गया. यहाँ स्थापित श्याम वर्ण खडगासन पार्श्वनाथ प्रतिमा स्वप्न देकर नदी से प्राप्त हुयी थी. यहाँ कांच मंदिर, स्वर्ण मंदिर, अलंकृत चंवरी व् संगमरमर का मानस्तंभ हैं.

Shree Parshwanath Digambar Jain Atishay Kshetra, place located 45 Km from Ajmer district via naseerabad and 46 km away from Kishangarh via Shri Nagar.

As per Bijolia record, Kasaldev’s son Prithviraj II donate the morkuti (Morjhadi) village for Jain Temple. In V.S. 1704, small temple incorporated.

Black characters, Khadasan statue of shree bhagwan parshwanath.

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535