जैन धर्म:वैज्ञानिक दृष्टिकोण

जैन धर्म/दर्शन एक ऐसा वैज्ञानिक धर्म है, जिसमें प्रत्येक कार्य आज के विज्ञान की खोज से पूर्व से ही हमारे धर्म में वर्णित है, और विज्ञान भी इसी का नाम है, विज्ञान एक शोध है-खोज नहीं, विज्ञान ने आज शोध किया, कि जल में 36450 जीव हैं, वसु ने कहा पेड़ों में जीवन है, जो हमारा धर्म पहले से ही कह रहा है, जो विज्ञान खोज आज कर रहा है, आज जिसकी गणना बता रहा है, उसे तो हमारे आचार्य पूर्व में ही बता चुके हैं कि तारे, चांद, सूर्य इतनी दूर हैं, इतनी संख्या में है, श्री तत्त्वार्थसूत्र जी में इसका संक्षेप वर्णन है, तथा इसी की टीका सर्वार्थसिद्धि जी, राजवार्तिक जी, तत्वार्थवार्तिक जी आदि में इसका स्पष्ट वर्णन/विस्तृत वर्णन है, एक-एक बात स्पष्ट है, दूरी आदि का भी सूक्ष्मता से वर्णन है, एक तथ्य और जो मैं सोचता हूं कि आर्यभट्ट ने शून्य की खोज नहीं की, आज सभी यही मानते हैं कि “आर्यभट्ट” ने शून्य की खोज की परंतु ऐसा नहीं है, क्योंकि आर्यभट्ट तो 476 ईसवी के हैं, और हमारे आचार्य और तीर्थंकर उनसे कई शताब्दियों पहले हुए, इनसे ही हमें संख्या का ज्ञान हुआ, शून्य का ज्ञान हुआ, भगवान ऋषभदेव ने अंक-विद्या का ज्ञान अनेकों शताब्दियों पूर्व ही करा दिया था, और पंचम काल में ही देखें तो द्वितीय शताब्दी से छठी शताब्दी तक के आचार्यों ने तो पहले ही अपने ग्रंथों में संपूर्ण कथन कर दिया था कि पृथ्वी का माप इतना है, आकाश काम माप इतना है और पाताल का माप इतना है, श्री तत्त्वार्थसूत्र जी में यह सब वर्णन है।

पृथ्वी गोल है- ऐसा आर्यभट्ट एवं वैज्ञानिक कहते हैं, परंतु जैन दर्शन तो यह सब पहले से ही कहता आ रहा है कि जम्बूद्वीप गोल है, तत्त्वार्थसूत्र जी के तृतीय अध्याय के 8वें सूत्र में कहा है-

द्विर्द्विर्विषकम्भा: पूर्व-पूर्व परिक्षेपणो वलयाकृतयः।।8।।

और आगे के द्वीप-समुद्र भी गोल है, और विज्ञान तो अभी केवल एक द्वीप “जम्बूद्वीप” के छह भागों में से एक आर्यखण्ड तक ही सीमित है, और उसे ही संपूर्ण पृथ्वी मानते हैं, तो समझना यह है कि आर्यभट्ट ने शून्य की खोज नहीं की, वरन् जैन धर्म में तो यह पूर्व से ही है, आदिनाथ की दी गई अंक-विद्या से ही प्रचलित है, विज्ञान कोई खोज का नाम नहीं, बल्कि एक संकुचित ज्ञान है, परंतु जैन धर्म में वर्णित जो माप और रचना का वर्णन है, वह उत्कृष्ट है, इसके बहुत से प्रमाण हैं जो जानने योग्य हैं, विज्ञान स्वयं की बात पर ही अडिग नहीं रहता, आज कुछ कहता है-कल कुछ कहता है, वह स्वयं स्ववचनबाधित दिखाई पड़ता है, जिससे विज्ञान झूठा प्रतीत होता है, जैन दर्शन में जो औषधि विज्ञान है वह भी अतुल्य है, परंतु आज का PHARMA/MEDICAL किसी भी बीमारी को दूर करने में समर्थ नहीं है, यदि एक बीमारी दूर करेगा भी, तो वही दवा चार नई बीमारियां उत्पन्न कर देती है, अतः स्पष्ट है आज के विज्ञान ने किसी प्रकार की तरक्की या खोज नहीं की है, बल्कि पूर्व की या शास्त्रों में वर्णन की हुई

बातों को ही प्रैक्टिकल करके बताया है, और साथ ही यह स्पष्ट होता है, कि जैन धर्म आज के विज्ञान से कई गुना वैज्ञानिक एवं गणितज्ञों  पहले ही गणित को बताने वाला है, शून्य को बताने वाला है, अतः गणित में शून्य का आविष्कारक “आर्यभट्ट” को मानना गलत है, क्योंकि इसका आविष्कार तो पहले ही हो चुका है।

 

— पं.शशांक सिंघई जैन “शास्त्री”

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535