प्रभु राम ने नहीं, लक्ष्मण ने किया था रावण का वध!

जैन रामायण में श्रीराम को अहिंसावादी बताया गया है, उन्होंने रावण का वध करने के लिए हथियार धारण नहीं किए। तब प्रभु राम ने नहीं बल्कि उनके अनुज लक्ष्मण ने रावण का संहार किया था।

दरअसल, जैन ग्रंथों में रामायण के नायक प्रभु श्रीराम को 63 शलाकापुरुषों में से एक बताया गया है। वहीं, रामायण के खलनायक रावण को जैन रामायण में उदार, विद्वान और जैन धर्म का अनुयायी के रूप में उल्लेखित किया है।

कहते हैं रावण भगवान शांतिनाथ (शांतिनाथ जैन धर्म में माने गए 24 तीर्थकरों में से एक है।) का महान भक्त था और उसे जैन धर्म के अनुसार प्रतिवासुदेव माना जाता है।

कौन होते हैं प्रतिवासुदेव

प्रतिवासुदेव जैन समुदाय का एक मानक है जो नारायण तथा बलदेव मानक के बाद काफी खास माना जाता है। प्रतिवासुदेव धारण करने वाले व्यक्ति की ताकत एक वासुदेव से कम होती है। जैन समुदाय में वासुदेव, बलदेव तथा प्रतिवासुदेव जैसे मानक बनाए गए हैं, जिनके आधार पर एक पुरुष का विभाजन किया जाता है।

हो चुके हैं 9 प्रतिवासुदेव

जैन धर्म में तीर्थंकर की मुख्य मान्यता है। तीर्थंकर की तरह ही प्रतिवासुदेवों का भी हर चतुर्युग के सामान्य चक्रीय कालक्रम में अवतरण होता है। जैन मान्यता के अनुसार इनकी कुल संख्या 9 है। प्रतिवासुदेवों द्वारा एक समय धारा के भीतर जन्म लिया जाता है। यह समय अपना चक्र पूरा कर के वापस लौटता है इसलिए इसे चक्रीय कहा जाता है।

  • Naidunia

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535