सवाल:-साधु और मुनिश्री मोर पंख ही क्यो लिए रहते है ?

जबाब :- मोर ही अकेला एक ऐसा प्राणी है जो ब्रह्मचर्य को धारण करता है ।

जब मोर प्रसन्न होता है तो वह अपने पंखो को फैला कर नाचता है और जब नाचते-नाचते मस्त हो जाता है

तो उसकी आँखों से आँसू गिरते है ।

और मोरनी इन आँसू को पीती है और इससे ही वह गर्भ धारण करती है ।

मोर में कही भी वासना का लेश भी नही है और जिसके जीवन में वासना नहीं ,

भगवान उसे अपने शीश पर धारण कर लेते है…॥

जिनको नहीं पता है कि मंदिर  में मोर के पंखों की बनी पिच्छी क्यों होती है , उन्हें इस मेसेज को जरुर पढ़ाएं और अपने परिवार , दोस्तों को भी पढ़ने को दें ।।

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535