21 दिन की कैद या 21 दिन की आज़ादी।

क्या चाहिए आपको ? यह आपके उपर निर्भर है। 21 दिनों तक घर की जेल में आपको रहना होगा। लेकिन यह अवसर मिला है जब हमें दुनिया के सारे झंझटों से आजादी मिल गई है। अब 21 दिन का समय केवल हमारे अपने लिए होगा और हमारे परिवार के लिए होगा।

लेकिन यह सब इतना आसान नहीं होगा क्योंकि आज की डरावनी स्थिति भी हमारे मन के एक कोने में अवश्य पड़ी हुई है। अभी हम सब कमजोर है। लेकिन हम सब इतने बड़े सौभाग्यशाली भी है कि हमें गुरु का सहारा मिला हुआ है। उनको मालूम है कि हमारे मन को मजबूत करने के लिए हमें सही दिशा निर्देशन की आवश्यकता होती है।

अतः बन्धुओं आज से हम अपने आपको गुरु के चरणों सौंप रहे है और उनसे विनती करते है – हे भगवन ! आज के इस भय के माहौल में हमे सहारा दीजिए। हमारे मन के डर को दूर करिए। हमारा मन मजबूत बने।

बन्धुओं आज सुबह से हम सबके के लिए इन 21 दोनों के लिए एक अद्भुत प्रयोग शुरू हो रहा है जिसके द्वारा हम अपने भय पर विजय प्राप्त करके सब जीवों के कल्याण की भावना भाएंगे। इन 21 दिनों तक हम और हमारा परिवार अपने डर पर काबू करके और इस महामारी को नष्ट करके एक नए उगते हुए शांति के सूर्य को देखेंगे।

आओ सब मिलकर आज सुबह एक नई शुरुआत करते है और सबको अपने साथ इस शांति की मुहिम में जोड़ कर अपने देश को इस संकट से बाहर निकालते है।

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535