Acharya Vidyasagar – में वर्तमान में होते हैं पंच-परमेष्ठी के दर्शन : अनंतमति माताजी

राघौगढ़ में आचार्य विद्यासागर महाराज की शिष्या आर्यिका रत्न अनंतमति माताजी  ससंघ के सानिध्य में आत्म बोधि शिक्षण शिविर के शुभारम्भ हुआ। इस मौके पर अनंतमति माताजी ने शिविरार्थियों को बताया कि पंच-परमेष्ठी पांच होते हैं। अरिहंत, सिद्ध, आचार्य, उपाध्याय और साधु परमेष्ठी हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान में आचार्य विद्यासागर महाराज में हमें पंच परमेष्ठी के दर्शन होते हैं। उन्होंने कहा कि पाचों परमेष्ठी के अलग-अलग गुण होते हैं।

लौकिक जीवन में हम जिस तरह मोबाइल नम्बर याद रखते हैं ठीक उसी तरह जैन धर्म के पंच परमेष्ठियों के मूलगुण भी याद रखने की प्रेरणा दी। विभाव से हटकर स्वभाव आने के लिए जैन धर्म का सूक्ष्म अध्ययन जरूरी है। जब तक हम जानने का प्रयास नहीं करेंगे, तब तक अज्ञानी माने जाएंगे। बता दें कि आत्मबोधि शिक्षण शिविर युवा एवं पुरुष वर्ग के लिए आयोजति किया गया है।

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535