अमेरिका की संस्था ने अपने वाषिर्क कलेंडर में त्रिलोकतीर्थ धाम को दी पहले पेज पर जगह

बागपत के खेकड़ा तहसील के पास बड़ागांव में श्री पाश्र्वनाथ दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र में जैन समुदाय के लोगों की विशेष आस्था और श्रद्धा है। इसी वजह से ये तीर्थ पूरे देश में ख्याति अर्जित कर चुका है किंतु अब इस क्षेत्र की ख्याति देश में ही नहीं विदेश में भी होने जा रही है। अमेरिका की विस्तरीय संस्था जैना ने त्रिलोकतीर्थ धाम को अपने वाषिर्क कलेंडर के प्रथम पेज पर स्थान देकर इसकी महत्ता को और चार चांद लगा दिये हैं। त्रिलोकतीर्थ धाम ने वि के पहले दस तीर्थस्थानों एवं विस्तरीय कलेंडर में स्थान मिलने से समाज में खुशी की लहर है। सिंहरथ प्र्वतक आचार्य श्री विद्या भूषण सन्मति सागर जी महाराज की ने इस धाम की नींव वर्ष 1998 में रखी थी। लगभग 16 वर्षो के बाद इसका निर्माण कार्य पूर्ण हुआ था। चूंकि आचार्य श्री का देवलोक गमन होने के बाद गत वर्ष 17 फरवरी को त्रिलोकतीर्थ धाम में पंचकल्याणक महोत्सव सम्पन्न हुआ था, जिसमें देश सहित विदेशों से अनेक विद्धानों ने माग लिया था। आज यह धाम धार्मिक आस्था और महत्ता के साथ देश का अदभुत धाम बन गया है। त्रिलोकतीर्थ धाम में 17 मंजिल हैं , जिसमें 3 मंजिल भूमिगत हैं। इन पर जाने के लिए 2 लिफ्ट भी लगायी गयी हैं। प्रचार मंत्री श्यामलाल जैन ने बताया कि संस्था ने वर्ष 2016 के कलेंडर में बड़ागांव के त्रिलोकतीर्थ धाम को संक्षिप्त परिचय सहित पहले पेज पर प्रकाशित किया है। इसके अलावा कलेंडर में विप्रसिद्ध कनाडा, अमेरिका, बल्जियम, इंग्लैंड, कीनिया, मलेशिया आदि देशों में स्थित जैन मंदिरों को भी प्रकाशित किया गया है। विस्तर पर त्रिलोकतीर्थ की पहचान बनने से तीर्थ के प्रबंधक त्रिलोकचंद जैन, विनोद कुमार जैन एडवोकेट, प्रमोद जैन, नरेशन जैन, योगेंद्र जैन आदि काफी उत्साहित हैं।

Comments

comments