माया तो शुभ हो सकती है, पर मायाचारी तो कषाय (पाप)ही है-गुणमति माताजी

केसली -माताजी ने अपने व्याख्यान मे कहा कि पंचम गुणस्थानवर्ती व्रती श्रावक पंच पापो का और चार कषायों का  सीमा मे त्यागी होता है l इसलिए ही अणुव्रत का धारक कहलाता है l चारों ही कषायें ही दुःख कर और दुःखदायी है, दुःख रूप ही हैं l अतः त्यागने योग्य ही है l अन्यथा इस भव और पर भव मे कष्ट देने वाली है l क्रोध तुरंत कष्ट देती है तथा खून की भी कमी करती है l क्योंकि पुरानी कहावत है कि गुस्सा मे खून खोलता है और छनकता है l मान मे तो व्यक्ति मर मिटकर भी अपने मान का पोषण करता है l

मायाचारी तो मधुर रस लगी तलवार है l क्योंकि मायाचारी तो मधुर बोल से ही होती है, मीठा बोल तो अच्छा है पर मीठा ठग नहीं ll और लोभ को तो पाप का बाप कहा जाता है l छूटता भी सबसे बाद मे है l इसलिए ही व्रती मिथ्या, माया और निदान से रहित ही कहा जाता है l धन्य राग की महिमा जहाँ राग होता है, वहां मल भी अच्छा लगता है l जैसे माँ अपने शिशु की नाक का मल तो झट से साफ कर देती है पर दूसरे के शिशु को देखकर नाक सिकोडती है l

ध्यान किया नहीं जाता है, ध्यान तो हो जाता है और जब होता है तो होता है l जैसे पनहारीन सिर पर अनेक जल से भरे बर्तन को रखे हुए बातें करते हुए चलती जाती है l बिना भय के पर पूरा ध्यान उन बर्तन ही होता है l यह ध्यान का उत्कृष्ट व्यावहारिक उदाहरण है l ऐसी ही ध्यान सिद्धि ही परम मोक्ष सुख की साक्षात् देने वाली है ll सर्वज्ञाशासन जयवन्त हो, जयवन्त हो श्रमण संस्कृति, महावीर भगवान की जय

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535