आर्यिकाश्री विज्ञानमति माताजी ससंघ का हस्तिनापुर में हुआ मंगल प्रवेश

सच्चा त्याग, तपस्या और सहनशीलता को देखना है तो जैन धर्म के संतों/आर्यिकाओं की दिनचर्या को देखें तब पता चलता है कि बाकई में त्याग, तपस्या और सहनशीलता होती क्या है? ऐसी ही त्याग, तपस्या और सहनशीलता की प्रतिमूर्ति आचार्य विद्यासागर जी की आज्ञानुवर्ती आर्यिका श्रेष्ठ विज्ञानमती माता जी हैं। जहां हम लोग तपती धूप में बाहर जाने से बचते हैं वहीं वीना बारहा से तपती धूप और विकट गर्मी में लगभग 900 किमी पैदल चलकर जैन धर्म के प्रमुख क्षेत्र हस्तिनापुर पहुंची।

बता दें कि विज्ञानमती माता जी बीना बारहा से चलकर विभिन्न अंचलों में होती हुई मथुरा से हस्तिनापुर में मंगल प्रवेश किया। माताजी के विहार के दौरान एक दिन पूर्ण अंतराय (24 घंटे पानी/भोजन का त्याग) उसके बाद अगले दिन चतुर्थी का उपवास होने के बावजूद भी वे रुकी नहीं बल्कि विहाररत रहीं। ऐसी परीषह सहने वाली परम पूज्य आर्यिका मां विज्ञानमती माता जी सच्ची तपस्या के बल पर मोक्ष मार्ग के पथ पर अग्रसर हैं। धन्य हैं ऐसी आर्यिका माता जी।

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535