जैन धर्म के सिद्धांत “जियो और जीने दो” में छिपा है कोरोना से बचाव का उपाय: गणाचार्य विराग सागर

भिंड। कोरोना वायरस  एक वैश्विक महामारी है। लोग इससे बचने के लिए कई उपाय भी कर रहे हैं। लेकिन  जैन धर्म के जियो और जीने दो के सिद्धांत को अपनाने से कोरोना जैसी  महामारी से बचा जा सकता है। यह प्रवचन गुरुवार को चैत्यालय जैन मंदिर में   गणाचार्य विराग सागर जी महाराज ने दिए।

गणाचार्य ने कहा कि जैन धर्म का  जियो और जीने दो का सिद्धांत अहिंसा है और अहिंसा ही धर्म है। जीना  तुम्हारा अधिकार है, तो जगत के प्राणियों को जीने देना तुम्हारा कर्तव्य  है। अगर हम संक्रमण से बचेंगे तो दूसरे प्राणी भी इससे बचेंगे। एक के कारण  अगर कोई दूसरा इस बीमारी का शिकार होता है तो यह फिर अहिंसा धर्म का पालन  नहीं हुआ।

गणाचार्य ने कहा कि संक्रमण से बचने के लिए सरकार द्वारा बताए गए नियमों का पालन जरूर करें और घर पर सुरक्षित रहें।

लॉकडाउन में प्रेरणा देने वाले धार्मिक साहित्य पढ़े

गणाचार्य  ने कहा कि कोरोना के संक्रमण को कम करने के लिए शासन ने लॉकडाउन लगा रहा  है। ऐसे समय में लोग घर में रहते हुए धार्मिक और अच्छी पुस्तकों का अध्ययन  करने के साथ कुछ अच्छा लिखें भी। इस दौरान आपको प्रेरणा देने वाले धार्मिक  साहित्य पढ़ना चाहिए। ऐसा करने से जहां समय अच्छे से बीतेगा साथ ही आप लोग  भी नई-नई बातों का ज्ञान होगा। इसके अलावा धर्म के प्रति लोगों की आस्था भी  बढ़ेगी।

 

— अभिषेक जैन लुहाड़ीया रामगंजमंडी

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535