हर पल मौत आपके पास आ रही है इसलिए समय का महत्व समझो : आचार्य पुलक़ सागर जी

बांसवाड़ा। मोहन कॉलोनी स्थित भगवान आदिनाथ मंदिर में आचार्य पुलक सागरजी महाराज ने अपने प्रवचनों के माध्यम से बताया कि किसी ने पूछा समय का मूल्य क्या है।  समय बहुत मूल्यवान है, समय बहुमूल्य है, समय अमूल्य है। समय जीवन का सार  है। समय बर्बाद मत करो। समय बर्बाद करना व्यर्थ में तिल तिल कर मरने के  समान है। आचार्य जी ने कहा कि समय किसी के बाप का नौकर नहीं होता समय अपना  मालिक खुद है वो किसी का इंतजार नहीं करता। अभी-अभी 8:00 बजे थे लो 9:00 बज  गए। मौत का घंटा एक कदम और आगे आ गया। मौत 1 घंटे और आगे खिसक कर आ गई। 1 दिन और हमारी मुट्ठी से निकल गया।

आचार्य जी ने कहा कि हर पल छन छन कर मौत  हमारी तरफ आ रही है। जो मुक्ति का सूत्र सीख लेते हैं मौत का सफर लंबा है  जो सफर से गुजरेंगे तो हमारे साथ कोई ना होगा। केवल अकेले होंगे। सगे  संबंधी कोई नहीं होगा। आंख बंद होते ही सब रिश्ते टूट जाते हैं। जिसे हम  सगा कहते हैं वही हमें दगा देता है। आचार्य जी ने कहा कि आपको मालूम है  पिता को मुखाग्नि उसका बेटा देता है और उस मुखाग्नि को दाग देना कहते हैं।  दाग से दगा बनता है। आचार्य जी ने कहा कि जीवन में भगवान के नाम का ही एक  सहारा होता है। थोड़ा पुण्य संचय कर लो धर्म कमा लो वरना मौत की दहलीज पार  करते ही सब कुछ खत्म हो जाएगा। अब तक जो गए उनकी कोई खोज खबर उनका कोई  समाचार कुछ नहीं है। कहां है किस हाल में है कोई फोन नंबर नहीं है उनका।

 

      — अभिषेक जैन लुहाडीया रामगंजमंडी

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535