शिखरजी की ओर विहाररत आर्यिका विभूतिश्री माता जी का हादसे में देवलोकगमन

आर्यिका विभूतिश्री माता जी की विहार करते समय हुए एक हादसे में मौत हो गई । जानकारी के मुताबिक विराग सागर जी मुनिराज की शिष्या विभूतिश्री माता जी ससंघ टीकमगढ़ से सतना होते हुए श्री सम्मेद शिखर जी की ओर विहाररत थी, तभी रीवां की मनगवां तहसील से 5 किमी. आगे टिकुरी37 में एक तेज रफ्तार बाइक सवार ने उन्हें प्रात: 06.00 बजे टक्कर मार दी। हादसे के बाद जैन परंपरा के अनुसार उन्होंने न तो किसी तरह की दवाई ली और न ही जल ग्रहण किया तथा बाइक सवार पर किसी भी तरह की कार्रवाई नहीं करने की इच्छा जताई। घटना की जानकारी मिलते ही रीवा-सतना सहित पूरे बुंदेलखंड जैन समुदाय के लोगों शोक की लहर दौड़ गई और भारी संख्या में श्रद्धालु अंतिम दर्शन करने पहुंच गये। आर्यिका माताजी की अंतिम इच्छा के मुताबिक बाइक सवार पर किसी भी तरह की कोई कार्रवाई नहीं की गयी और न ही पुलिस में किसी तरह का मामला दर्ज करवाया गया।

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535