मधुबन में आध्यात्मिक होली खेलने पहुंचते हैं दूर-दूर से श्रद्धालु

फागुन महीना आते ही आमतौर पर लोग होली की मस्ती भरी रंगों की बौछारों में सरोबार होना शुरू कर देते हैं।  हों भी क्यों न, फागुन का मस्ती भरा हाली का त्यौहार ही ऐसा है। आज हम आपको पूर्णरुपेण धार्मिक और आध्यात्मिक रंगों से सरोबार मधुबन (श्री सम्मेद शिखर जी) की होली के बारे में जानकारी दे रहे हैं। इस होली में न रंग, न गुलाल और न ही पानी किंतु मस्ती और उमंग ऐसी कि देश के कोने-कोने से श्रद्धालु यहां की आध्यात्मिक होली में रंगने चले आते हैं।

हालात यह हैं कि अभी से विभिन्न धर्मशालाओं, गेस्ट हाउस आदि के अधिकांश कमरे बुक हो जुके हैं। यहां की विभिन्न संस्थाओं में भी होली की जबर्दस्त तैयारी चल रही है। बता दें कि होली पर यहां पर दूर-दराज से श्रद्धालु यहां आते हैं  और हाली पर मंदिरों में विशेष पूजा-अर्चना की जाती है। लिहाजा होली अभी कुछ दूर हैं किंतु तैयारियां अभी से शुरू की जा चुकी हैं।  मंदिर परिसर में रंग-रोगन, तोरणद्वारा सहित पंडाल आदि के निर्माण का कार्य चरम पर है।

जैन श्वेताम्बर सोसाइटी स्थित भोमिया जी मंदिर को भी सजाया और संवारा जा रहा है साथ ही संस्था में जोर-शोर से आकषर्क बनाने का काम चल रहा है। बता दें कि होली यानी फागुन पूर्णिमा को यहां पर रात्रि जागरण का आयोजन किया जाता है। इस कार्यक्रम के लिए कोलकाता से कई भजन मंडलियां आती हैं। भजन के बाद श्रद्धालु बाबा भोमिया को गुलाल अर्पित कर होली मनाते हैं।

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535