धन के दान से भी बड़ा ज्ञान का दान: आचार्य श्री सुनील सागर

सागवाड़ा। आचार्य सुनील सागर जी  महाराज ने शुक्रवार को ऋषभ वाटिका स्थित सन्मति समवशरण सभागार में प्रवचन में कहा कि धार्मिक व्यक्ति में नैतिकता का होना जरूरी है, क्योंकि बिना नैतिकता के धर्म का दुरुपयोग होता है। नैतिकता के अभाव में धार्मिक पाखंड, कपट एवं छल होना स्वाभाविक है।

आत्मज्ञानी और वेद विज्ञान के ज्ञाता को सत्य और शांत चित्त होने के साथ ही समता के भाव रखने चाहिएं। अगर समता तथा सभ्यता के गुण नहीं तो फिर ज्ञानी होना भी व्यर्थ है। ज्ञान तथा आत्मदर्शन से ही सम्यक चरित्र का निर्धारण होता है। आचार्य ने कहा कि धन के दान से बड़ा महादान ज्ञान का होता है, इसी से संपूर्ण संसार और मानव जीवन का कल्याण होता है। आचार्य के प्रवचन से पूर्व संघस्थ आर्यिका आर्षमति माताजी ने संबोधित किया और उनके अवतरण दिवस पर गुरुभक्तों ने वंदना की।

आचार्य संघ का सागवाड़ा से विहार कल

ट्रस्टी नरेंद्र खोड़निया ने बताया कि आचार्य संघ का सागवाड़ा से विहार रविवार शाम को 4 बजे होगा। इससे पूर्व शनिवार को सुबह 11 बजे आचार्य के सानिध्य में पंडित जनक शास्त्री के निर्देशन में आचार्य शांतिसागर महाराज छाणी दिगंबर जैन श्राविका आश्रम के निर्माणाधीन भवन का शिलान्यास होगा।

— अभिषेक जैन लुहाड़ीया रामगंजमंडी

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535