रायसेन में पहले समवशरण जैन मंदिर का किया जा रहा निर्माण

रायसेन। म. प्र.। जैन समाज की आस्था व धर्म के प्रति जागरूकता का प्रमाण है कि जिले का एक मात्र समवशरण जैन मंदिर का निर्माण करीब ढाई करोड़ की लागत से सिलवानी में किया जा रहा है। भव्य व आकर्षक मंदिर के निर्माण में समाज के प्रत्येक सदस्य द्वारा बगैर किसी लालसा के चलते तन, मन, धन से सहयोग किया जा रहा है। अभी तक करीब आधे से अधिक निर्माण पूर्ण किया जा चुका है।

बुधवारा बाजार में श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर के समीप निर्मित किए जा रहे समवशरण जैन मंदिर का निर्माण ,राष्ट्र संत, संत शिरोमणि आचार्य विद्यासागर महाराज के परम आशीर्वाद से श्रीपार्श्वनाथ दिगंबर जैन द्वारा कराया जा रहा हैं। इस समवशरण जैन मंदिर के निर्माण में समाज की भावनाएं जुड़ी हुई है। नगर में जैन समाज सहित अन्य समाजों के धार्मिक कार्यक्रम आयोजित होते रहते है जो कि भव्यता लिए हुए होते है।

पांच वर्ष पूर्व मुनि श्री ने किया था भूमिपूजन

नगर में निर्मित हो रहे जिले के प्रथम समवशरण जैन मंदिर का निर्माण प्रारंभ कार्य का भूमि पूजन आचार्य विद्यासागर महाराज के शिष्य मुनि विमल सागर महाराज के द्वारा वर्ष 2010 में जैन समाज की उपस्थिति में किया गया था। तब से लगातार मंदिर निर्माण का कार्य चल रहा है। मंदिर निर्माण का करीब एक चौथाई कार्य पूर्ण हो जाने का दावा समाज के पदाधिकारियों के द्वारा किया जा रहा है। इस समवशरण जैन मंदिर के निर्माण पूर्ण हो जाने से यह जिले का प्रथम समव शरण जैन मंदिर कहलाने का गौरव हासिल कर लेगा।

जयपुर से आएंगी प्रतिमाएं

समवशरण मंदिर में स्थापित की जाने वाली भगवानों की समस्त 44 प्रतिमाएं जयपुर से लाई जाएगी। प्रतिमाओं को लाए जाने के लिए समय व तारीख का चयन किया जाएगा। इसके बाद ही प्रतिमाओं को लाए जाने की कार्यवाही प्रारंभ की जाएगी। लाल पत्थर से किए जा रहे मंदिर का निर्माण जयपुर से आए हुए कारीगरों के द्वारा किया जा रहा है। आकर्षक भव्यता लिए मन को लुभाने वाली नक्काशी का कार्य कारीगरोें के द्वारा किया जा रहा है।

शीघ्र होगा मंदिर का निर्माण पूर्ण

नगर में जिले के प्रथम समवशरण जैन मंदिर का निर्माण कार्य राष्ट्र संत आचार्य आचार्य विद्यासागर महाराज के आशीर्वाद से समाज बंधुओं के सहयोग से हो रहा है। उम्मीद है कि अगले वर्ष तक निर्माण कार्य पूर्ण हो जाएगा। निर्माण पूर्ण होने के बाद आचार्य श्री के सानिध्य में पंच कल्याणक कार्यक्रम संपन्न होगा। चंद्रकुमार जैन, महामंत्री, श्रीपार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर समिति सिलवानी।

विद्यासागर महाराज के सान्निध्य में होगा पंच कल्याणक

रायसेन जिले के प्रथम समवशरण जैन मंदिर का निर्माण अगले वर्ष 2017 में पूर्ण होना बताया जा रहा है। मंदिर का निर्माण पूर्ण हो जाने पर आचार्य विद्यासागर महाराज के ससंघ सानिध्य में नगर में पंच कल्याणक महोत्सव का आयोजन किया जाएगा। इस आयोजन के संपन्न होने के साथ ही मंदिर में भगवान की मूर्तियों को अनुष्ठान के साथ विराजमान किए जाने का कार्य पूर्ण हो जाएगा। मंदिर में प्रत्येक दिन समाज बंधुओं के द्वारा दैनिक पूजन, अभिषेक किए जाने के धार्मिक अनुष्ठान प्रारंभ हो जाएंगें।

निर्मित हो रहे समवशरण जैन मंदिर में विभिन्न भगवानों की 44 मूर्तियां पूर्ण विधि विधान के साथ धार्मिक अनुष्ठान के साथ प्रतिष्ठित की जाएगी। इन मूर्तियों में 24 तीर्थंकर भगवानों की मूर्तियों के साथ ही अन्य मूर्तियां स्थापित की जाएगी। मंदिर के बीचों बीच चतुर्मुख प्रतिमाएं स्थापित की जाएगी। मंदिर में चार मान स्तंभ भी होंगे, जिन पर 24 भगवानों की प्रतिमाएं स्थापित की जाएगी।

 

 

  • Bhaskar

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535