मंदिर में दर्शन कर लेने मात्र से साधना पूरी नहीं होती : आचार्य हेमचंद्रसागर सूरीश्वर

इंदौर के रतनबाग स्थित शंखेर पाश्र्वनाथ नवरत्नधान में धर्मसभा को संबोधित करते हुए शुक्रवार आचार्य हेमचंद्र सागर सूरीश्वर महाराज ने कहा कि केवल श्लोक पढ़ लेने या मन्दिर में जाकर दर्शन कर लेने मात्र से तपस्या-साधना नहीं पूरी होती। जैन धर्म में जन्म लेना ही सबके लिए गौरव की बात है क्योंकि अहिंसा, सत्य और अपरिग्रह जैसे सार्वभौमिक सिद्धांतों के पोषक हैं। इसके बाद मुनि प्रसन्न सागर, आनंदचंद्र सागर, गणिवर्य विराग चंद्रसागर एवं मेघचंद्र सागर ने भी धर्मसभा में प्रवचनरूपी अमृतधारा की वर्षा की।

इसके पूर्व जानकरी नगर से विहार कर साधु-साध्वी भगवंतों का संघ रिमझिम फुहारों के बीच बैंड-बाजों सहित रतनबाग में मंगल प्रवेश किया। श्री श्वेताम्बर जैन तपागच्छ उपाश्रय ट्रस्ट के चेयरमैन एवं रेसकोर्स रोड श्रीसंघ के डा. प्रकाश मांगानी तथा दिलीप सी. जैन ने बताया कि आचार्यश्री एवं 112 साधु-साध्वी एवं भगवंतों के 9 जुलाई को क्लर्क कालोनी, 10 जुलाई को पीपली बाजार, 11 जुलाई को कंचनबाग एवं 12 जुलाई को बल्लभ नगर में मंगल प्रवचन होंगे।

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535