जहाजपुर पंचकल्याणक: माता की गोद भराई के साथ हुआ गर्भ कल्याण

जहाजपुर। स्वस्तिधाम में गर्भ कल्याण महोत्सव मनाया गया। जिसमें प्रातः कालीन बेला  में जिनाभिषेक हुआ। वह पंचकल्याण महोत्सव की पूजा हुई इस अवसर पर आर्यिका स्वस्तिभूषण माताजी के मंगल प्रवचन में कहा गर्भ कल्याण का कारण होता है। उन्होंने कहा संस्कार का बहुत बड़ा महत्व है। साथ ही उन्होंने कहा अभिषेक तीन प्रकार का होता है। जिनाभिषेक, राज्याभिषेक, जन्माभिषेक उन्होंने कहा जन्मकल्याण का अभिषेक वैभव का कारण है।

आचार्य ज्ञानसागर जी महाराज ने कहा कल्याणक उन्ही के होते है, जिनका अंतिम भव होता है। उन्होंने कहा राजगृही नगर में भगवान के गर्भ में आने से पूर्व कुबेर द्वारा 14 करोड़ रत्नों की वर्षा की जाती है। ताकि कोई गरीब न रहे। उन्होंने मार्मिक प्रवचन देते हुए कहा सँस्कार का जीवन मे बहुत बड़ा महत्व है। उन्होंने कहा रानी सोमा ने सोलह स्वप्न को देखती ही तो तब माता की प्रसन्नता को कोइ नही समझ सकता। यदि गर्भ में कोई पापी सन्तान आ जाये, तो बड़ी विचित्रता होगी उन्होंने कहा खाना खाते समय tv  देखना बहुत बीमारी का कारण है। साथ ही उन्होंने कहा गर्भवती महिलाओं को व्हाट्सप फेसबुक आदि से दूर रहना चाहिए। रात को 10 बजे बाद व्हाट्सप फेसबुक आदि का उपयोग अनिद्रा को जन्म देता है। यह वैज्ञानिक बता चुके है। उन्होंने कहा आप कोल्ड वाटर, आरो आदि बीमारी को जन्म देते है। ताबे के बर्तन में जो शुद्धता हैं। वह मिनरल वाटर में नही उन्होंने संस्कारो का उदाहरण देते हुए कहा जब लोहे का सँस्कार किया जाता है वह बोल्ट के रूप मे कितना अनूठा कार्य कर जाता है। उन्होंने कहा सुभद्रा की नींद अभिमन्यु की मौत का कारण बनी।

 

— अभिषेक जैन लुहाड़िया रामगंजमंडी

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535