जैनों को दिखानी होगी एकजुटता, तभी केंद्रीय सत्ता में मिलेगा स्थान।

उदयपुर। मोहनलाल सुखाडिया विविद्यालय के विवेकानन्द सभागार में आयोजित फेडरेशन ऑफ हूमड जैन समाज के अंतरराष्ट्रीय पंचम द्विवाषिर्क अधिवेशन के समापन समारोह के अवसर पर राजस्थान वित्त आयोग के पूर्व अध्यक्ष चंद्रराज सिंघवी बतौर विशिष्ट अतिथि के रूप में शामिल हुए। सिंघवी ने कहा कि देश में जैनों की संख्या लगभग 2 करोड़ है किंतु दुर्भाग्य है कि देश की सत्ता में उनका कोई स्थान नहीं है। उन्होंने कहा कि जैन समुदाय को सत्ता में शामिल होने के लिए संघर्ष करना पड़ेगा और जैनियों के अलग-2 समुदाय के लोगों को एकजुट होना पड़ेगा। इसके लिए कम से कम 10 लाख जैनी भाई लालकिला या रामलीला मैदान पर एकत्रित होंगे, उस दिन सत्ताधारी दल जैनियों को केंद्रीय मंत्रिमंडल में नेतृत्व देने के लिए सोचने पर मजबूर होगा। समारोह में चेम्बर ऑफ कॉमर्स उदयपुर के डिवीजन अध्यक्ष पारस सिंघवी ने कहा कि देश की 125 करोड़ जनसंख्या में जैनों की संख्या लगभग 2 प्रतिशत से भी कम है। इसलिए जैन धर्म को दिल में उतारकर ही हमको आगे बढ़ना होगा। इस अवसर पर फेडरेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक शाह, महामंत्री विपिन गांधी ने 1 हजार पृष्ठ वाली फेडरेशन ऑफ हूमड जैन समाज द्वारा प्रकाशित देश-विदेश में बसे हूमड जैन परिवारों की विवरणिका -2016 का तथा सुमतिलाल डागरिया एवं परिजनों ने हूमड जैन प्रवाह पुस्तक का विमोचन किया। इस अवसर पर राजस्थान जनजाति विविद्यालय के कुलपति टी.सी.डामोर,महेन्द्र शाह,महेश फडे, उमेश फडे सुरेश सिंघवी सहित अनेक अतिथि मौजूद थे। अंत में महामंत्री विपिन गांधी ने पधारे अतिथियों का दिल से धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम का संचालन आलोक पगारिया ने किया।

Comments

comments