सहस्त्रनाम विधान में जम्बू स्वामी के वैराग्य का हुआ, भव्यता से मंचन

मैनपुरी के कुरावली नगर में जैन भवन में आयोजित सहस्त्रनाम विधान के दौरान बुधवार रात्रि में जम्बू स्वामी नाटिका का भव्य मंचन किया गया। आर्यिका 105 सृष्टि भूषण माताजी के सानिध्य में हो रहे सहस्त्रनाम विधान के दौरन बुधवार रात्रि श्री शांतिनाथ जैन मंदिर में बालिका मंडल द्वारा श्री शांतिनाथ भगवान की आरती की गयी और उसके बाद जैन भवन में भगवान पाश्र्वनाथ की महाआरती की गयी। उसके बाद जम्बू स्वमी का वैराग्य नामक नृत्य नाटिका का भव्यता के साथ मंचन किया गया। नाटिका के मुख्य पात्रों में अखिल जैन, गुंजन जैन, पूजन जैन, भावना जैन, रिनी जैन, संजोली जैन, गुंजा जैन आदि ने बहुत ही बखूवी मंचन किया। नाटिकामें संगीत की आकषर्क प्रस्तुति भोपाल की संजय एंड पार्टी द्वारा दी गयी। इस दौरान सृष्टिभूषण जी ने कहा कि जो मन के शुद्ध भावों से जिनेंद्र भगवान की पूजा करते हैं, उन पर कभी भी कोई संकट नहीं आ सकता है। इसलिए अपने जीवन को सुंदर बनाने के लिए हमें छल का नहीं, आत्मबल का सहारा लेना चाहिए। कार्यक्रम में अध्यक्ष संजोली जैन, मंत्री ेता जैन, सहमंत्री रूपल, मनु जैन, मुस्का, छबि, सैजल, नेहा, प्रतीक्षा, समीक्षा, रिनी, प्रवीन कुमार जैन, अंकुर जैन, अभिषेक जैन, राजेश जैन, सुदीप जैन, जीवनकांत जैन, कुलदीप जैन, नवीन जैन, ऋषभ जैन, राजा, सुप्रव, अजित प्रकाश, बोंटी जैन, नीलेश जैन, सोमप्रकाश जैन आदि मौजूद रहे।

Comments

comments