रतलाम में चातुर्मास कर मुनिश्री प्रमाण सागर-विराट सागर जी का विहार : श्रद्धालुओं की आंखें छलकी

File Photo

रतलाम नगर में मुनि श्री प्रमाण सागर जी एवं मुनि श्री विराट सागर जी महाराज चातुर्मासरत थे। चातुर्मास के बाद उनका मंगलवार को विहार हुआ और वे सालाखेड़ी होते हुए स्कूल पहुंचे, जहां रात्रि विराम हुआ। बुधवार प्रात: रेनमऊ पर आहारचर्या कर धराड़ होकर धार पहुंचेंगे। रतलाम में मुनिश्री का चातुर्मास हेतु मंगल प्रवेश 9 जुलाई को हुआ था और 27 जुलाई को कलश स्थापना के साथ नगर के लोकेंद्र भवन में चातुर्मास की स्थापना हुई थी।

लगभग पांच माह मुनिश्री के सानिध्य में रतलाम में शंका समाधान, दसलक्षण पर्व एवं पूजन-विधान सहित 48 मंडपों पर श्री सिद्धचक्र महामंडल विधान एवं वि शांति यात्रा सम्पन्न हुई। रतलाम नगर में मुनिश्री के चातुर्मास के दौरान पूरे देश के श्रद्धालुगण दर्शन करने आये और मुनिश्री का आशीर्वाद प्राप्त किया। इस दौरान रतलाम नगरवासी सहित आसपास के श्रद्धालुओं का मुनिश्री का सानिध्य पाकर इतने गदगद और मुनिश्री से इतना लगाव हो गया कि मुनिश्री के विहार करते समय लगभग डेढ़-दो लाख श्रद्धालुओं के आंसू झलक गये।

मुनिश्री ने लोकेंद्र भवन से विहार शुरु कर स्टेशन रोड, अनाज मंडी होते हुए स्कूल पहुंचे। विहार कराने वालों में मुख्य रूप से ओम अग्रवाल, अजय बाकीवाल, कमलेश पापरीवाल, कीर्ति बडजात्या, नीलेश गोधा, धम्रेश कोठारी, अनुराग जैन, विकास जैन, वीरेंद्र गंगवाल, विमल सन्मति मंडल के मनोज अग्रवाल, रतज बडजात्या, अविरल मोठिया सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालुगण मौजूद रहे।

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535