मुनिश्री ने आहार ग्रहण कर भक्तों को दिये दर्शन, समाधि (सल्लेखना) अभी नहीं

मुनिश्री तरुण सागर जी के गिरते स्वास्थ्य और उनकी तबियत के बारे में आये दिन तरह-तरह की सूचनाएं सोशल मीडिया पर आ रही हैं। कुछ तो ठीक हैं किंतु कुछ हकीकत के कोसों दूर। ऐसी स्थिति में हम सभी का यह कर्तव्य है कि मुनिश्री की तबियत के बारे में गलत आशंकाएं पोस्ट न करें। आज 31 अगस्त को प्रात: 09.15 बजे मुनिश्री ने सभी भक्तों को चातुर्मास स्थल की छत से दर्शन भी दिए। मुनिश्री तरुण सागर जी ने आचार्य श्री सौभाग्य सागर जी, मुनि श्री अरुण सागर जी सहित 20 संतों के सानिध्य में आहार ग्रहण किया और तत्पश्चात भक्तों को आशीर्वाद दिया।

उन्होंने न तो समाधि हेतु सल्लेखना (संथारा) ग्रहण की है और न ही अभी तक इसकी कोई औपचारिक घोषणा की है। अफवाहों के दौर में मुनिश्री अरुण सागर जी ने समाज और सभी भक्तों से अपील की है कि मुनिश्री पर समाधि का दवाब न बनायें, बल्कि मुनिश्री के जल्द स्वस्थ्य होने हेतु जाप करें। उन्होंने बताया कि आज मुनिश्री का स्वास्थ्य स्थिर है। ऐसे समय अपने मन से कोई भी संदेश ना भेजें। अनुकूलता के हिसाब से समय-समय पर मुनिश्री के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी दी जाती रहेगी।

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535