श्री तरुणसागरम तीर्थ पर बनेगी मुनिश्री तरुण सागर की समाधि, तैयारियां जोरों पर

राष्ट्रसंत मुनिश्री तरुण सागर जी देवलोक गमन के बाद उनको मुखाग्नि दिल्ली- हरिद्वार हाई-वे स्थित मुरादनगर के श्री तरुणसागरम तीर्थस्थल पर दी गई थी। निर्माणाधीन श्री तरुणसागरम तीर्थ स्थल पर ही मुनिश्री तरुण सागर जी की समाधि बनाई जाएगी। इसके लिए जोर-शोर से तैयारियां चल रही हैं। बता दें कि मुरादनगर में तरुणसागरम तीर्थ स्थल पहले से ही निर्माणाधीन है। अपने कड़वे प्रवचानों के लिए अपनी विशिष्ट पहचान बनाने वाले मुनिश्री के प्रति जैन ही नहीं अजैनों की भी पूरी भक्ति और श्रद्धा थी और वे सभी मुनिश्री के बातों को सुनने आते थे और अमल भी करते थे। जैन मुनिश्री तरुण सागर जी अपने अंतिम समय में गंभीर पीलिया रोग से ग्रसित हो गये थे और आभास होने पर देवलोकगमन के तीन दिन पूर्व उन्होंने समाधि मरण (संथारा) का प्रण ले लिया था।

समाज के अरुण कुमार जैन ने बताया कि मुनिश्री की अस्थियों और राख को अलग-अलग कलशों में समाधि स्थल पर सुरक्षित रख लिया गया है। जिन कलशों में अस्थियां और रख रखी जाएगी, वे अष्टधातु से निर्मित हैं और उन्हें विशेष तरह की डिजायन से तैयार करवाये गये हैं। इस कलशों पर किसी भी मौसम का कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। समाधि स्थल पर जिस स्थान पर मुनिश्री को मुखाग्नि दी गई थी, वहां दो गहरे गडडे खोदे जाएंगे। उक्त गडडों में पूरी विधि-विधान से दोनों कलशो को रखा जायेगा, इसके बाद उनकी समाधि के ऊपर चबूतरा और मुनिश्री की मूर्ति बनाई जाएगी।

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535