लोगों को सेल्फी के बगैर भी मुस्कुराना सीखना चाहिए: मुनिश्री तरुण सागर

नोएडा। सेक्टर-50 स्थित जैन मंदिर में शुक्रवार को आयोजित प्रवचन में मुनिश्री तरुण सागर महाराज ने कहा कि मनुष्य की दृष्टि सही हो या न हो लेकिन दृष्टिकोण सही होना बहुत जरूरी है। कोई इंसान अमीर व गरीब नहीं होता। वह मन से अपने को गरीब मानने लगता है। भगवान महावीर स्वामी ने कहा है कि सुख-दुख मन की उपज है। लोगों को सेल्फी के बगैर भी मुस्कुराना सीखना चाहिए। जिंदगी एक है सबके जीने के तरीके अलग-अलग हैं। मौत एक है, लेकिन सबके मरने के तरीके अलग-अलग हैं। इंसान को मंदिर में भगवान से कुछ मांगना नहीं चाहिए। मांगो तो सिर्फ  बस इतना कि मुझे और मन को इतना मजबूत बना दो कि मैं हर मुसीबत का खुशी से सामना कर सकूं। परिवर्तन को स्वीकार करना होगा। सभी परिस्थितियों को हंसकर स्वीकार करें।

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535