शुद्ध घी का भरपेट भोजन 50 का, झूठन छोड़ी तो लगेगा 101 जुर्माना

भोपाल के हबीबगंज में आचार्य श्री विद्यासागर जी ससंघ का चातुर्मास हो रहा है। इस दौरान आचार्यश्री के दर्शनों हेतु भारी संख्या में श्रद्धालुगण हबीबगंज पहुंच रहे हैं। ऐसे में हबीबगंज जैन मंदिर के सामने समाज की तरफ से चल रही भोजनशाला में आने वाले लोगों को थाली में झूठा भोजन न छोड़ने के प्रति जागिृत किया जाता है। इस भोजनशाला में ऐसा नियम लागू किया है, जिससे भोजन की वर्बादी रुक गई है। शुद्ध देसी घी से बना शुद्ध सात्विक भोजन मात्र 50/- में उपलब्ध है किंतु यदि खाने के बाद थाली में जूठन छोड़ी तो आपको 101/- का जुर्माना देना होगा। यह नियम लागू होने के बाद थाली में नाम मात्र की झूठन बच रही है। खाना खाने के बाद लोगों को अपनी थाली चेक करानी पड़ती है।

इसके बाद लोगों को भोजन के एक-एक दाने का महत्व समझाया जाता है और लोगों से भोजन थाली में न छोड़ने की अपील की जाती है। जैन समाज द्वारा चलाई जा रही भोजनशाला में कुएं के पानी का इस्तेमाल किया जाता है साथ ही साफ-सफाई के साथ शुद्धता पर विशेष ध्यान दिया जाता है। यहां तक कि लोग शुद्ध वस्त्र पहनकर भोजन तैयार करते हैं। इस भोजनशाला में लगभग 1000 लोग प्रतिदिन भोजन ग्रहण कर रहे हैं। शुरू में भोजन की वर्बादी देख, भोजनशाला ने यह नियम लागू किया है तथा अब इसके सकारात्मक परिणाम भी मिलने लगे हैं।

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535