साइंस वर्ग का टॉपर चला सन्यासी की राह पर, बना जैन भिक्षु

अभी हाल ही में गुजरात के 12वीं बोर्ड में अब्बल स्थान हासिल करने  वाले अहमदाबाद के शिक्षार्थी वर्शिल शाह आज भिक्षु बन गये। भिक्षु बनने से पूर्व वर्शिल ने वे सारी प्रक्रियाएं और विधि पूर्ण की जो एक भिक्षु बनते समय करनी पड़ती है। आज से वर्शिल शुद्ध, सादा जीवन जिएंगे। ज्ञात हो कि हाल ही में 12वीं बोर्ड की परीक्षा में विज्ञान में 99.99 अंक हासिल कर अब्बल दर्जा प्राप्त किया और इसके बदले उन्होंने अपने माता-पिता से ऐसी मांग की वे हैरान रह गये। दरअसल वर्शिल ने मांग की कि वह भौतिकतावादी संसार को त्याग सन्यासी जीवन व्यतीत करना चाहता है।

वर्शिल के पिता ने कहा कि उनका पूरा परिवार शुरू से ही आध्यात्मिकता से जुड़ा रहा है और बेटे के इस फैसले से वे काफी खुश हैं। उन्होंने यहां तक कहा कि स्कूल की छटिटयों में वर्शिल कहीं अन्य घूमने के बजाय सत्संग में जाना पसंद करता था। वर्शिल का पूरा परिवार जैन धर्म का सच्चे अथों में अनुयायी है क्योंकि उनके घर में बिजली के इस्तेमाल पर भी प्रतिबंध है। उनका मानना है कि बिजली पैदा करने प्रक्रिया में कई सूक्ष्म मासूम जीवों की जान चली जाती है जो कि जैन धर्म के मूल सिद्धांत अहिंसा के विपरीत है। यहां तक कि उनके घर में टीवी, फ्रिज भी नहीं है। बिजली का इस्तेमाल सिर्फ तब ही किया जाता है जब रात या पढ़ाई के समय जब बहुत आवश्यक हो।

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535