जिन देशों ने अपनी मातृभाषा नहीं छोड़ी उनकी तरक्की सबसे ज्यादा हुई : आचार्य श्री विद्यासागर जी

इंदौर। जिन देशों ने अपनी मातृभाषा को नहीं छोड़ा और अंग्रेजी भाषा को नहीं अपनाया, उन देशों की तरक्की विश्व में सर्वाधिक हुई है। ये विचार आचार्य श्री  विद्यासागर जी  महाराज ने शुक्रवार को अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर छत्रपति नगर स्थित आदिनाथ दिगंबर जैन मंदिर में व्यक्त किए।

आचार्यश्री ने कहा- देश में महाराष्ट्र, गुजरात, उड़ीसा, विदेशी भाषा का भी उपयोग होता है। यह गंभीर विषय है कि हम कैसे अपनी बात को दूसरी भाषा वाले तक पहुंचा सकते हैं। हम भावों के माध्यम से हमेशा चाहते हैं कि अपनी बात सबको समझ आ जाए। एक मां और उसके दूध पीने वाले छोटे बच्चे के बीच में भी भाव की ही भाषा काम करती है। उन्होंने कहा- जैसे भोजन स्वादिष्ट हो, लेकिन ज्यादा मात्रा में करने से स्वास्थ्य खराब कर देता है। ठीक वैसे ही मात्रा जहां लगाना होती है, वहींं लगाना चाहिए अन्यथा अर्थ का अनर्थ हो जाता है।

 

       — अभिषेक जैन लुहाडीया रामगंजमंडी

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535