प्रभु स्मरण के लिए समय निकालें नहीं, जब भी समय मिले तब करें ध्यान: आचार्यश्री विद्यासागर

इंदौर। दूध को धीमी आंच पर तपाकर पानी को हटाया जाता है तब हमें सुगंधित खोया प्राप्त होता है। उसी प्रकार यह शरीर है, इसे तपा दिया जाए या मंथन कर दिया जाए तो उस आत्मारुपी खोया (मावा) को प्राप्त किया जा सकता है। प्रभु का स्मरण करने के लिए अलग से समय निकालने के बजाय, जब मौका मिले तब स्मरण करें। यह बात आचार्य श्री विद्यासागर जी  महाराज ने बुधवार को सुदामा नगर स्थित जैन मंदिर में समाजजनों को संबोधित करते हुए कही।

उन्हाेंने कहा- जो शरीर को तपाता है उससे बढ़कर रईस कोई दूसरा नहीं। आत्म तत्व को पाने वाला ही तीन लोक का नाथ बन सकता है। सुबह से ससंघ का प्रतिक्रमण, स्वाध्याय सुदामा नगर में हुआ। दयोदय ट्रस्ट परिवार के महामंत्री संजय मेक्स ने बताया कि गुमाश्ता नगर, स्मृति नगर, कालानी नगर, छत्रपति नगर के समाजजनों ने आचार्यश्री को श्रीफल भेंट कर आगमन के लिए निवेदन किया।

 

               — अभिषेक जैन लुहाडीया रामगंजमंडी

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535