पूजा विधि प्रारम्भ Pooja Vidhi Prarambh

ॐ  जय!    जय!    जय! |

नमोऽस्तु!    नमोऽस्तु!    नमोऽस्तु!|

णमो अरिहंताणं, णमो सिद्धाणं, णमो आइरियाणं |

णमो   उवज्झायाणं,    णमो    लोए    सव्वसाहूणं ||

ॐ ह्रीं अनादिमूलमंत्रेभ्यो नमः |  (पुष्पांजलि क्षेपण करें)

चत्तारि मंगलं  अरिहंता मंगलं, सिद्धा मंगलं, साहू मंगलं, केवलपण्णत्तो धम्मो मंगलं |

चत्तारि लोगुत्तमा, अरिहंता लोगुत्तमा, सिद्धा लोगुत्तमा, साहू लोगुत्तमा, केवलिपण्णत्तो धम्मो लोगुत्तमो |

चत्तारि सरणं पव्वज्जामि, अरिहंते सरणं पव्वज्जामि, सिद्धे सरणं पव्वज्जामि, साहू सरणं पव्वज्जामि,

केवलिपण्णत्तं धम्मं सरणं पव्वज्जामि ||

ॐ नमोऽर्हते स्वाहा |

(पुष्पांजलि क्षेपण करें)

अपवित्रः पवित्रो वा सुस्थितो दुःस्थितोऽपि वा |

ध्यायेत्पंच-नमस्कारं सर्वपापैः प्रमुच्यते |१|

अपवित्रः पवित्रो वा सर्वावस्थां गतोऽपि वा |

यः स्मरेत्परमात्मानं स बाह्याभ्यंतरे शुचिः |२|

अपराजित-मंत्रोऽयं, सर्व-विघ्न-विनाशनः |

मंगलेषु च सर्वेषु, प्रथमं मंगलमं मतः |३|

एसो पंच-णमोयारो, सव्व-पावप्पणासणो |

मंगलाणं च सव्वेसिं, पढमं हवइ मंगलम् |४|

अर्हमित्यक्षरं ब्रह्म, वाचकं परमेष्ठिनः |

सिद्धचक्रस्य सद्बीजं सर्वतः प्रणमाम्यहम् |५|

कर्माष्टक-विनिर्मुक्तं मोक्ष-लक्ष्मी-निकेतनम् |

सम्यक्त्वादि-गुणोपेतं सिद्धचक्रं नमाम्यहम् |६|

विघ्नौघाः प्रलयं यान्ति, शाकिनी भूत पन्नगाः |

विषं निर्विषतां याति स्तूयमाने जिनेश्वरे |७|

(पुष्पांजलि क्षेपण करें)

(अर्थ)

पवित्र हो या अपवित्र, अच्छी स्थिति में हो या बुरी स्थिति में,पंच-नमस्कार मंत्र का ध्यान करने से सब पाप छूट जाते हैं |१|

चाहे (स्नानादिक से) पवित्र हो अथवा (किसी अशुचि पदार्थ के स्पर्श से) अपवित्र हो, (सोती, जागती, उठती, बैठती, चलती) किसी भी दशा में हो, जो (पंच-परमेष्ठी) परमात्मा का स्मरण करता है वह (उस समय) बाह्य (शरीर) और अभ्यन्तर (मन) से पवित्र होता है |२|

यह नमस्कार मंत्र (किसी मंत्र से पराजित नहीं हो सकता इसलिए) अपराजित मंत्र है|  यह सभी विघ्नों को नष्ट करने वाला है एवं सर्व मंगलों में यह पहला मंगल है |३|

यह पंच नमस्कार मंत्र सब पापों का नाश करने वाला है|

और सब मंगलों में पहला (परम उत्कृष्ट) मंगल है |४|

‘अर्हं’ नाम का यह अक्षर-ब्रह्म परमेष्ठी-वाचक है| सिद्ध-चक्र के केंद्र इस महान बीजाक्षर को मैं मन-वचन-काया से नमस्कार करता हूँ |५|

आठ कर्मों से रहित, मोक्ष रूपी लक्ष्मी के मंदिर, सम्यक्त्व, दर्शन, ज्ञान, अगुरुलघुत्व, अवगाहनत्व, सूक्ष्मत्व, अव्याबाधत्व, वीर्यत्व इन आठ गुणों से युक्त सिद्ध समूह को मैं नमस्कार करता हूँ |६|

अरिहंतादि (पंच परमेष्ठी) जिनेश्वरों का स्तवन करने से विघ्नों के समूह नष्ट हो जाते हैं; शाकिनि, डाकिनि, भूत, पिशाच, सर्प आदि का भय नहीं रहता; और हलाहल विष भी अपना असर त्याग देते है |७|

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535