Home Jain Bhajan Jain Aarti

Jain Aarti

Jain Aarti, Jain Dharma Aarti, Lord adinath Aarti, Lord Mahavira Aarti,

Jain News

आचार्य अतिवीर जी का हुआ तिजारा में भव्य मंगल प्रवेश

प्रशममूर्ति आचार्य श्री शान्तिसागर जी महाराज (छाणी) परम्परा के प्रमुख संत परम पूज्य आचार्य श्री 108 अतिवीर जी मुनिराज का राजस्थान की पुण्यधरा पर...

हीरापुर के खेत में मिली प्राचीन जिन प्रतिमा

आज दिनांक 30 नवंबर को शाम 5 बजे हीरापुर मध्यप्रदेश में खेत की जुताई के दौरान खेत में प्राचीन जिन प्रतिमा मिली है। रैकवार...

Shri Sammed Shikharji: पर्यटन के नाम पर खुलेंगे ऊपर होटल, मिलेगा अभक्ष्य, मांस, शराब,...

मुनि श्री विहर्ष सागरजी ससंघ ने अब एक ही लक्ष्य ‘शिखरजी को बचाना’ सामने रखते हुए विवेक विहार , दिल्ली दिगम्बर जैन मंदिर में...

ब्रिटिश पुस्तकालय में भारत की प्राकृत पाण्डुलिपियाँ

भारत का लिपिबद्ध प्राचीन साहित्य विश्व में सर्वाधिक समृद्ध है। धार्मिक विद्वेष के कारण यहां की अनेक पाण्डुलिपियां नष्ट कर दीं गईं। कहते हैं...

रिसाली में श्रीमद् जिनेंद्र पंचकल्याणक महोत्सव आचार्य श्री विशुद्ध सागर जी महाराज के सानिध्य...

हम सभी के असीम पुण्योदय से छत्तीसगढ़ की पावन धरा पर अव स्थित लघु भारत के नाम से प्रख्यात इस्पात नगरी भिलाई में अवस्थिति...

Jain Food