Ramtek, Maharashtra

अतिशय क्षेत्र रामटेक नागपुर जिले के नजदीक स्तिथ हैं. श्री 1008 शांतिनाथ दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र रामटेक, यह क्षेत्र वनवास के समय भगवन रामचंद्र के विश्राम स्थल के कारन रामटेक कहलाया. यहाँ के सुरम्य वनों में कालिदास के मेधदूत नमक अमर काव्य की रचना की. वास्तु कला निर्माण में भोसले राजाओ द्वारा निर्मित देवालय समूह और तलहटी में विशाल परिसर में दिगम्बर जिनालय शिखर समहू, अतिअशय यूक्त श्री 1008 भगवन शांतिनाथ की पीले पशन की लगभग शेड 13 फ़ुट के चतुर्थ कालीन खडगासन प्रतिमा, अनेक वेदियाँ, पाशान पर उत्कीर्ण उत्क्रुस्त कलाकृति इत्यादी प्रमुख आकर्षण के केंद्र हैं.

The ancient site of Ramtek, situated outside the village of the same name, is known as Shri Shantinath Digambar Jain Atishaya Kshetra and includes 15 temples and shrines framed by a wall. The idol of Bhagawan Shantinatha installed in the Shantinath Mandir is believed to fulfill the desires of the devotees. Ramtek has been decribed by Kalidasa in his lyric poem Meghadūta (“cloud messenger”). It is believed that Ramchandra once had visited this place.

How to reach:

Air: -Nearest Airport is at Nagpur

Rail: –Railway Station Ramtek-5 Kilometers Away.

Road: – Bus Stand 5 Kilometers

Nearby Places:

Around this temple, there are eight temples. There is also a very splendid and beautiful Manastambh and it is very ancient.

 

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535