पंच बालयति तीर्थंकर पूजा – Panch Baalyati Tirthankar Pooja

Kavishri Aradas

(दोहा)
श्री जिन पंच अनंग-जित, वासुपूज्य मल्लि नेम |
पारसनाथ सु वीर अति, पूजूँ चित-धरि प्रेम ||

ओं ह्रीं श्री पंचबालयति-तीर्थंकरा: अत्र अवतर अवतर संवौषट्! (आह्वाननम्)
ओं ह्रीं श्री पंचबालयति-तीर्थंकरा: अत्र तिष्ट तिष्ट ठ: ठ:! (स्थापनम्)
ओं ह्रीं श्री पंचबालयति-तीर्थंकरा: अत्र मम सन्निहितो भव भव वषट्! (सन्निधिकरणम्)

अथाष्टक
शुचि शीतल सुरभि सुनीर, लायो भर झारी,
दु:ख जामन मरन गहीर, या कों परिहारी |
श्री वासुपूज्य मल्लि नेमि, पारस वीर अति,
नमूं मन वच तन धरि प्रेम, पाँचों बालयति ||

ओं ह्रीं श्री वासुपूज्य-मल्लिनाथ-नेमिनाथ-पार्श्वनाथ-महावीर पंचबालयति- तीर्थंकरेभ्यो जन्म-जरा-मृत्यु-विनाशनाय जलं निर्वपामीति स्वाहा ।१।

चंदन केशर कर्पूर, जल में घसि आनो |
भव-तप-भंजन सुखपूर, तुमको मैं जानो ||
श्री वासुपूज्य मल्लि नेमि, पारस वीर अति,
नमूं मन वच तन धरि प्रेम, पाँचों बालयति ||

ओं ह्रीं श्री वासुपूज्य-मल्लिनाथ-नेमिनाथ-पार्श्वनाथ-महावीर पंचबालयति- तीर्थंकरेभ्यो संसारताप-विनाशनाय चंदनं निर्वपामीति स्वाहा ।२।

वर अक्षत विमल बनाय, सुवरण-थाल भरे |
बहु देश-देश के लाय, तुमरी भेंट धरे ||
श्री वासुपूज्य मल्लि नेमि, पारस वीर अति,
नमूं मन वच तन धरि प्रेम, पाँचों बालयति ||

ओं ह्रीं श्री वासुपूज्य-मल्लिनाथ-नेमिनाथ-पार्श्वनाथ-महावीर पंचबालयति- तीर्थंकरेभ्यो अक्षयपद-प्राप्तये अक्षतान् निर्वपामीति स्वाहा ।३।

यह काम सुभट अतिसूर, मन में क्षोभ करो |
मैं लायो सुमन हुजूर, या को वेग हरो ||
श्री वासुपूज्य मल्लि नेमि, पारस वीर अति,
नमूं मन वच तन धरि प्रेम, पाँचों बालयति ||

ओं ह्रीं श्री वासुपूज्य-मल्लिनाथ-नेमिनाथ-पार्श्वनाथ-महावीर पंचबालयति- तीर्थंकरेभ्यो कामबाण-विध्वंसनाय पुष्पं निर्वपामीति स्वाहा ।४।

षट् रस पूरित नैवेद्य, रसना-सुखकारी |
द्वय कर्म वेदनी छेद, आनंद ह्वै भारी ||
श्री वासुपूज्य मल्लि नेमि, पारस वीर अति,
नमूं मन वच तन धरि प्रेम, पाँचों बालयति ||

ओं ह्रीं श्री वासुपूज्य-मल्लिनाथ-नेमिनाथ-पार्श्वनाथ-महावीर पंचबालयति- तीर्थंकरेभ्यो क्षुधारोग-विनाशनाय नैवेद्यं निर्वपामीति स्वाहा ।५।

धरि दीपक जगमग ज्योति, तुम चरणन आगे |
मम मोहतिमिर क्षय होत, आतम गुण जागे ||
श्री वासुपूज्य मल्लि नेमि, पारस वीर अति,
नमूं मन वच तन धरि प्रेम, पाँचों बालयति ||

ओं ह्रीं श्री वासुपूज्य-मल्लिनाथ-नेमिनाथ-पार्श्वनाथ-महावीर पंचबालयति- तीर्थंकरेभ्यो मोहांधकार-विनाशनाय दीपं निर्वपामीति स्वाहा ।६।

ले दशविधि धूप अनूप, खेऊँ गंधमयी |
दशबंध दहन जिनभूप, तुम हो कर्मजयी ||
श्री वासुपूज्य मल्लि नेमि, पारस वीर अति,
नमूं मन वच तन धरि प्रेम, पाँचों बालयति ||

ओं ह्रीं श्री वासुपूज्य-मल्लिनाथ-नेमिनाथ-पार्श्वनाथ-महावीर पंचबालयति-तीर्थंकरेभ्यो अष्टकर्म-दहनाय धूपं निर्वपामीति स्वाहा ।७।

पिस्ता अरु दाख बदाम श्रीफल लेय घने |
तुम चरण जजूँ गुणधाम द्यो सुख मोक्ष तने ||
श्री वासुपूज्य मल्लि नेमि, पारस वीर अति,
नमूं मन वच तन धरि प्रेम, पाँचों बालयति ||

ओं ह्रीं श्री वासुपूज्य-मल्लिनाथ-नेमिनाथ-पार्श्वनाथ-महावीर पंचबालयति- तीर्थंकरेभ्यो मोक्षफल-प्राप्तये फलं निर्वपामीति स्वाहा ।८।

सजि वसुविधि द्रव्य मनोज्ञ, अरघ बनावत हूँ |
वसुकर्म अनादि संयोग ताहि नशावत हूँ ||
श्री वासुपूज्य मल्लि नेमि, पारस वीर अति,
नमूं मन वच तन धरि प्रेम, पाँचों बालयति ||

ओं ह्रीं श्री वासुपूज्य-मल्लिनाथ-नेमिनाथ-पार्श्वनाथ-महावीर पंचबालयति- तीर्थंकरेभ्यो अनर्घ्यपद-प्राप्तये अर्घ्यं निर्वपामीति स्वाहा ।९।

जयमाला

(दोहा)
बाल ब्रह्मचारी भये, पाँचों श्री जिनराज |
तिनकी अब जयमालिका, कहूँ स्व-पर हितकाज ||

(पद्धरि छन्द)
जय जय जय जय श्री वासुपूज्य, तुम-सम जग में नहिं और दूज |
तुम महाशुक्र-सुरलोक छार, जब मात गर्भ-माँहीं पधार ||

षोडश सपने देखे सुमात, बल अवधि जान तुम जन्म तात |
अति हर्ष धार दंपति सुजान, बहुदान दियो याचक-जनान ||

छप्पन कुमारिका तबै आन, तुम मात-सेव बहुभक्ति ठान |
छ: मास अगाऊ गर्भ आय, धनपति सुवरन-नगरी रचाय ||

तुम तात महल आंगन मँझार, तिहुँकाल रतनधारा अपार |
वरषाए षट् नवमास सार, धनि जिन-पुरुषन नयनन निहार ||

जय ‘मल्लिनाथ’ देवन सुदेव, शत-इन्द्र करत तुम चरण-सेव |
तुम जन्मत ही त्रय ज्ञान धार, आनंद भयो तिहुँजग अपार ||

तब ही ले चहुँ विधि देव-संग, सौधर्म इन्द्र आयो उमंग |
सजि गज ले तुम हरि गोद आप, वन पाँडुक शिल ऊपर सुथाप ||

क्षीरोदधि तें बहु देव जाय, भरि जल घट हाथों हाथ लाय |
करि न्हवन वस्त्र-भूषण सजाय, दे मात नृत्य ताँडव कराय ||

पुनि हर्ष धार हृदय अपार, सब निर्जर तब जय-जय उचार |
तिस अवसर आनंद हे जिनेश, हम कहिवे समरथ नहीं लेश ||

जय यादवपति श्री ‘नेमिनाथ’, हम नमत सदा जुगजोरि हाथ |
तुम ब्याह समय पशुअन पुकार, सुनि तुरत छुड़ाये दया धार ||

कर कंकण अरु सिर मोर बंद, सो तोड भये छिन में स्वच्छंद |
तब ही लौकान्तिक-देव आय, वैराग्य वर्द्धनी थुति कराय ||

तत्क्षण शिविका लायो सुरेन्द्र, आरूढ़ भये ता पर जिनेन्द्र |
सो शिविका निजकंधन उठाय, सुर नर खग मिल तपवन ठराय ||

कच लौंच वस्त्र भूषण उतार, भये जती नगन मुद्रा सुधार |
हरि केश लेय रतनन पिटार, सो क्षीर उदधि माहीं पधार ||

जय ‘पारसनाथ’ अनाथ नाथ, सुर-असुर नमत तुम चरण माथ |
जुग-नाग जरत कीनो सुरक्ष, यह बात सकल-जग में प्रत्यक्ष ||

तुम सुरधनु-सम लखि जग असार, तप तपत भये तन ममत छाँड़ |
शठ कमठ कियो उपसर्ग आय, तुम मन-सुमेरु नहिं डगमगाय ||

तुम शुक्लध्यान गहि खड्ग हाथ, अरि च्यारि घातिया करे सुघात |
उपजायो केवलज्ञान भानु, आयो कुबेर हरि वच प्रमाण ||

की समोशरण रचना विचित्र, तहाँ खिरत भर्इ वाणी पवित्र |
मुनि सुर नर खग तिर्यंच आय, सुनि निज निज भाषा बोध पाय ||

जय ‘वर्द्धमान’ अंतिम जिनेश, पायो न अंत तुम गुण गणेश |
तुम च्यारि अघाती कर महान्, लियो मोक्ष स्वयं सुख अचलथान ||

तब ही सुरपति बल अवधि जान,सब देवन युत बहु हर्ष ठान |
सजि निजवाहन आयो सुतीर, जहँ परमौदारिक तुम शरीर ||

निर्वाण महोत्सव कियो भूर, ले मलयागिर चंदन कपूर |
बहुद्रव्य सुगंधित सरस सार, ता में श्री जिनवर वपु पधार ||

निज अगनि कुमारिन मुकुट नाय, तिहँ रतनन शुचि ज्वाला उठाय |
तस सर माँहिं दीनी लगाय, सो भस्म सबन मस्तक चढ़ाय ||

अति हर्ष थकी रचि दीप माल, शुभ रतन मर्इ दश-दिश उजाल |
पुनि गीत-नृत्य बाजे बजाय, गुणगाय-ध्याय सुरपति सिधाय ||

सो थान अबै जग में प्रत्यक्ष, नित होत दीपमाला सुलक्ष |
हे जिन तुम गुण महिमा अपार, वसु सम्यक् ज्ञानादिक सुसार ||

तुम ज्ञान माँहिं तिहुँलोक दर्व, प्रतिबिम्बित हैं चर अचर सर्व |
लहि आतम अनुभव परम ऋद्धि, भये वीतराग जग में प्रसिद्ध ||

ह्वे बालयती तुम सबन एम, अचरज शिव कांता वरी केम |
तुम परम शांति मुद्रा सुधार, किया अष्ट कर्म रिपु को प्रहार ||

हम करत वीनती बार-बार, करजोर स्व-मस्तक धार-धार |
तुम भये भवोदधि पार-पार, मोको सुवेग ही तार-तार ||

अरदास दास ये पूर-पूर, वसु-कर्म-शैल चकचूर-चूर |
दु:ख-सहन दास अब शक्ति नाहिं, गहि चरण-शरण कीजे निवाह ||

(चौपार्इ)
पाँचों बालयती तीर्थेश, तिनकी यह जयमाल विशेष |
मन वच काय त्रियोग सम्हार, जे गावत पावत भव-पार ||

ओं ह्रीं श्री पंचबालयति-तीर्थंकरजिनेन्द्रेभ्य: जयमाला-पूर्णार्घ्यं निर्वपामीति स्वाहा।

(दोहा)
ब्रह्मचर्य सों नेह धरि, रचियो पूजन ठाठ |
पाँचों बालयतीन का, कीजे नितप्रति पाठ ||

।। इत्याशीर्वाद: पुष्पांजलिं क्षिपेत् ।।

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535