विसर्जन पाठ – जुगल किशोर Visarjan Paath

संपूर्ण विधि कर वीनऊँ इस परम पूजन ठाठ में।

अज्ञानवश शास्त्रोक्त विधि तें चूक कीनों पाठ में॥
सो होहु पूर्ण समस्त विधि-वत तुम चरण की शरणतै।
बंदौं तुम्हें कर जोरिकें उद्धार जामन मरणतै॥1॥

आह्वानन स्थापन तथा सन्निधिकरण विधान जी।
पूजन विसर्जन यथाविधि जानूं नहीं गुणगानजी॥
जो दोष लागौ सो नशौ सब तुम चरण की शरणतैं।बंदों तुम्हें कर जोरि कर उद्धार जामन शरणतैं॥2॥

तम रहित आवागमन आह्वानन कियो निज भाव में।
विधि यथाक्रम निजशक्ति सम पूजन कियो अतिचाप में॥
करहूँ विसर्जन भाव ही में तुम चरण की शरणतें।
वंदो तुम्हें कर जोरि कर उद्धार जामन मरणतें॥

तीन भुवन तिहूँ काल में, तुमसा देव न और।सुख कारण संकट हरण, नमो ‘जुगल’ कर जोर॥

आशिका लेने का छंद :
श्री जिनवर की आशिका, लीजे शीश चढ़ाय।
भव-भवके पातक कटें, दुःख दूर हो जाय॥

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535