Jain temple in Tijara – श्री 1008 चंद्र प्रभु दिगंबर जैन अतिशय क्षेत्र देहरा-तिजारा राजस्थान के अलवर जिले में स्थित है। यह अतिशय क्षेत्र कहलाता है। अतिशय का अर्थ है सामान्य से बहुत ज्यादा। यानी ऐसा क्षेत्र जहां कुछ असाधारण घटित हो या कोई चमत्कार हो जाए। यानी अगर साधारण तौर पर जो कुछ मांगा जाए, उससे कहीं ज्यादा मिल जाए। इतना मिले कि आप सराबोर हो जाएं। ऐसी ही है तिजारा क्षेत्र की मान्यता।

यहां चंद्र प्रभु भगवान की सफेद रंग की अत्यंत मनोहारी संगमरमर की मूर्ति स्थापित है। यह मूर्ति इस क्षेत्र में कराई गई खुदाई के दौरान 16 अगस्त, 1956 को निकली थी। इस घटना के कई वर्ष बाद उसी क्षेत्र से 29 मार्च, 1972 को चंद्र प्रभु भगवान की काले रंग की पद्मासन मुद्रा में इस अन्य मूर्ति प्राप्त हुई। यह मूर्ति मंदिर के दक्षिणी गेट की खुदाई के दौरान निकली।

This jain temple in tijara was established in 1956 following the recovery of an idol of Chandraprabha on 16 August 1956. The white stone idol was retrieved from underground, reinforcing the belief that this place was once a Dehra, a place where Jain idols are worshipped. After the setting up of This Jain Temple in tijara, the place has regained its former importance as a pilgrimage centre. This jain temple has a big campus including admin office, bhojan shala, dharamshala, car parking space.

How to reach Jain temple in Tijara :

By Road:– Busses & Taxies are available from various cities Delhi, Jaipur, Alwar, Rewari etc.
By Rail:– Nearby Railway Stations are Jaipur, Alwar, Delhi. Busses are available for Tijara from here.
Airport:– Delhi, Jaipur.

Address:

Shree 1008 Chandraprabhu Digambar Jain Atishay kshetra,

Dehra, Tijara station,

Kherthal, District Alwar.

Rajasthan. Pin-301 411

Phone 01469-222119, 222407

Nearby Places:

Shri Choolgiriji (Khaniyaji) jain temple,

Shri Bada Padampura jain temple,

Sanganer jain temple,

jain temple in Jaipur ,

Mahaveerji jain temple.

Comments

comments