गर्भकाल में अच्छे विचार का करें मंथन बच्चों में आएंगे संस्कार : सुनील सागरजी

सागवाड़ा – जहां महापुरुषों ने जन्म लिया उसे तीर्थ कहते हैं, आचार्य श्री सुनील सागर जी महाराज ने धर्म सभा को संबोधित करते हुए कहा कि जब जब धरती पर संकट आता है तब महापुरुषों का जन्म होता है। जहां महापुरुषों ने जन्म लिया उसे तीर्थ कहते हैं। तीर्थों की रक्षा करता है उसे तीर्थंकर कहते हैं। तीर्थंकर संसार सागर को पार कराने वाले होते हैं। आचार्य ने कहा कि जन्म से ही प्रभु इतने सुंदर होते हैं कि इंद्र उनके रूप के दर्शन करने के लिए दो नहीं हजार नेत्र धारण करते हैं। जग के कल्याण की इतनी सुंदर भावना कि उनके आते ही नरक के नारकी को भी कुछ समय के लिए शांति प्राप्त होती है।

भगवान के जन्म से ही उनके रस अतिशय प्रारंभ हो जाते हैं। आचार्य ने कहा कि अगर मां गर्भ काल में अच्छे विचार करती है तो वैसे ही विचार और संस्कार बालक में आते हैं। जो मां हमेशा टीवी पर टकटकी लगाए रहती है तो उसके बच्चे के आंखों में विकार आता है। जो मां गाने सुनती है उसके शिशु बहरे पैदा होते हैं। मां के गर्भ काल के संस्कार षोडश संस्कार के साथ अंतिम संस्कार तक काम आते हैं। आचार्य ने कहा कि भारतीय संस्कृति के रिश्ते श्रद्धा और प्रेम की नींव पर टिके रहते हैं जबकि पाश्चात्य संस्कृति के रिश्ते ताश के पत्ते के समान होते हैं। इस अवसर पर समाज के पदाधिकारी और कई श्रद्धालु मौजूद थे।

संकलन अभिषेक जैन लुहाड़ीया रामगंजमंडी

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535