कौशल्या जैसी माता और दशरथ जैसे पिता हो तो आज भी राम हो सकते: आचार्य ज्ञानसागर जी

जहाजपुर। स्वस्तिधाम गर्भ कल्याण महोत्सव पर मध्यांन बेला मे आचार्य ज्ञानसागर जी महाराज ने अपने प्रवचन में कहा कि संस्कार का जीवन में बहुत बड़ा महत्व है। उन्होने कहा आज भी राम हो सकते हैं, यदि कौशल्या जैसी माता और दसरथ जैसे पिता हो। उन्होंने कहा गर्भकल्याण के दिन मै यही कहूँगा बूचड़खाने औऱ गर्भपात निंदनीय हैं। जो माता 6 आवश्यक पालन करती है उसकी संतान भी संस्कारित होगी। राजा चंद्रगुप्त पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कुशल शासन किया लेकिन राजपाठ त्याग कर संयम अंगीकार कर मुनि दीक्षा ली और समाधि को प्राप्त हुए। उन्होंने कहा आज सराक बंधु अपने नाम भगवान के नाम से रखते उन्होंने 1991 शिखर जी वर्षायोग के समय इन सराक बन्धु ने मांसहार त्याग कर शाकाहार को अपनाया।

 

 — अभिषेक जैन लुहाडीया रामगंजमंडी

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535