जीवन के अठारह दोषों में पहला दोष भूख- मुनि उत्तमसागर

 नसीराबाद। उत्तमसागर महाराज ने कहा कि जैन दर्शन में अठारह दोषों का वर्णन किया गया है और उसमें पहला दोष भूख बताया गया है जो सबसे बड़ा भूत है। वे स्थानीय मुख्य बाजार स्थित जैन बड़े मंदिर में आयोजित धर्मसभा को संबोधित कर रहे थे। मुनि उत्तमसागर महाराज ने बताया कि देव अरिहंत ने भूख का नाश कर दिया था। मुनि महाराज ने श्रावकों को शिक्षा देते हुए बताया कि भूख लगने के बाद खाना प्रकृति है बिना भूख के खाना विकृति है और भूख लगने के बाद भी पहले दूसरों को खिलाकर फिर खाना यह भारतीय संस्कृति है।

मुनिश्री ने धर्मसभा में श्रावकों को अन्य दाेषोें प्यास, बुढ़ापा, रोग, जन्म मरण आदि का भी वर्णन करते हुए इन्हें शांत करने और सहन करने के साधन और आध्यात्मिक तरीकों की जानकारी दी। मुनि श्री ने कहा कि भगवान बनने के बाद पसीना नहीं आता लेकिन भगवान बनने के लिए पसीना बहाना पड़ता है इसलिए 18 दोषों से रहित देवों के देव सच्चे देव के स्वरूप को जानना चाहिए।

  • अभिषेक जैन

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535