देश में गोमाता, पशु-पक्षी और वृक्ष सुरक्षित रहेंगे तभी हमारा जीवन सरल रहेगा : ञान सागर जी

किसान और गोरक्षा सम्मेलन में आचार्य ने लोगों से पशुओं को बच्चों की तरह पालने का किया आह्वान, गुरुवार को किसान और गो रक्षा सम्मेलन आयोजित किया गया । जिसमें आचार्य ज्ञान सागर जी महाराज ने कहा की हमारे देश मे भारतीय संस्कृति मूल है और हमारा देश कृषि प्रधान देश है आज भी 65 प्रतिशत कृषकों पर आधारित है किसानों से हम अन्न दाता भी कहते है । वही उन्होंने सभी लोगो से गाय की रक्षा करने और गो पालन करने का आह्वान किया गया ।

किसान और गो रक्षा सम्मेलन को सं‍बोधित करते हुए उन्होने कहा कि हमको बच्चो से ज्यादा पशुधन पर ध्यान देना होगा साथ ही बच्चों की तरह उनकी देखभाल करनी होगी और बच्चों से ज्यादा उनसे प्यार करना होगा तभी पशुधन सुरक्षित रह पाएगा। उन्होंने सभी लोगो को पशुधन पालने का आह्वान किया साथ ही अहिंसा परमो धर्म का पालन करने का आह्वान किया गया । उन्होंने कहा कि हमारे देश मे गो माता , पशु पक्षी , वृक्ष सुरक्षित रहे तो हमारा जीवन सरल रहेगा वरना इंसान के जीवन में दुखों का भंडार बनकर रह जावेगा । उन्होंने कहा नशा नाश का कारण है जिससे प्रत्येक घरो की महिलाएं और बच्चे परेशान तो होते ही है साथ ही उनके आर्थिक कमजोरी भी सामने आती है । । इसी अवसर पर आचार्य ज्ञान सागर जी महाराज ने घोषणा की दौसा जिले के बसवा कस्बे में 2 दिसम्बर से 7 दिसंबर तक ओर 31 जनवरी से 7 जनवरी तक भीलवाड़ा जिले के जहाजपुर कस्बे में पंच कल्याणक महोत्सव का आयोजन किया जावेगा जिसमे पांच पांच ओर दस दस किसानों को सम्मानित किया जावेगा। इस आयोजन का संचालन कवि डॉक्टर कमलेश बसंत व संजय जैन बड़जात्या कामा ने किया

संकलन अभिषेक जैन लुहाड़ीया रामगंजमंडी

Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535