वह भक्त नहीं जिसे गुरू या भगवान के सामने भिखारी बनना पडे़ – मुनिश्री सुधासागर


ललितपुर। क्षेत्रपाल जैन मंदिर में सोमवार को धर्मसभा को सम्बोधित करते हुए निर्यापक श्रमण  मुनिपंुगव सुधासागर महाराज ने कहा बिन मांगे मोती मिले, मांगे मिले न भीख। मांगने से शक्ति का हृास होता है, गुरू पूज्य बताते हुए उन्होने कहा अगर  उनके सामने भीख मांगनी पडे तो तुम भक्त नहीं। अगर भगवान के सामने मांगने की प्रवृत्ति रखोगे तो सदैव भिखारी  ही रहोगे। कृष्ण सुदामा का चरित्र बताते हुए उन्होने कहा सुदामा ने भगवान से कुछ नहीं मांगा लेकिन सब कुछ मिला। मुनिश्री ने कहा मांगने का त्याग करो, ऐसी शक्ति जागृत होगी कि तुम्हें किसी का सहारा नहीं लेना पडेगी। स्वशक्ति जागरण को श्रेयस्कर बताते हुए मुनिश्री ने कहा जिसदिन आत्मा की शक्ति जागृत हुई दुनिया तुम्हारी शरण में होगी।

मुनिश्री ने दान को श्रेयस्कर बताते हुए कहा यह विना मांगे मिलता है और भीख मांगनी पडती है  मांगकर बहू को लाना निकृष्ठ कर्म है। कुछ पाने की लालसा से संबंध नहीं बनाने की प्रेरणा देते हुए उन्होने कहा किसी तिर्यन्च पशु से मांगने की लालसा नहीं रखना वरन कुछ देने के भाव रखना।

उन्होंने कहा कि पुण्यहीन के सहारे न रहें, पुण्यहीन को सहारा दें। अपने माता-पिता की सम्पत्ति पर बुरी नीयत न रखें।

ललितपुर से अक्षय अलया व डॉ. सुनील संचय ने जानकारी देते हुए बताया कि  आज प्रातःकाल क्षेत्रपाल मंदिर मूलनायक वेदिका पर अभिषेक की मांगलिक क्रियाए हुई इसके उपरान्त शान्तिधारा मुनि श्री के मुखारविन्द से हुई जिसका पुर्ण्याजन शिखरचंद सुरेन्द्र कुमार लोकेश सर्राफ किसलवास परिवार को मिला।

आहारचर्या का सौभाग्य इन्हें मिला:

आज मूुनि श्री सुधासागर महाराज की आहार चर्या राजकुमार जैन देवरान सिविल लाइन, नगर गौरव पूज्य सागर महाराज की आहार चर्या विजय जैन राजश्री प्रकाश जैन बंटी वडकुल परिवार, ऐलक धैर्य सागर महाराज की आहार चर्या कोटा निवासी श्रीमति सुनीता चेतन जैन मायजा परिवार  एवं क्षुल्लक गम्भीर सागर महाराज की आहारचर्या व्रहमचारिणी सविता दीदी परिवार मेे हुई। सायंकाल जिज्ञासा समाधान में मुनि सुधासागर महाराज श्रावकों की जिज्ञासा का समाधान कर रहे है। मुनि सुधासागर महाराज एवं मुनि पूज्यसागर महाराज अपने संघस्थ एलक धैर्यसागर महाराज एवं क्षुल्लक गम्भीर सागर महाराज के ललितपुर चातुर्मास में दर्शनार्थ धर्मालुजनों के पहुचने का सिलसिला थम नहीं रहा है।

शिक्षा को बेहतरी के लिए मुनिश्री का आशीर्वाद:

आज प्रातःकाल मुनि सुधासागर महाराज ने शिक्षा को बेहतरी के लिए आर्शीवाद देते हुए कहा ज्ञानदान से बडा दूसरा दान नहीं हैं। निर्यापक मुनि श्री एंव मुनि पूज्यसागर महाराज नगर के तालाबपुरा में संचालित सुधासागर कन्या इण्टर कालेज पहुचने पर जैन पंचायत के शिक्षा मंत्री संजय मोदी, प्रधानाचार्या कल्पना जैन, शीलचंद अनौरा, अनिल जैन मामा भांजा, प्रभात लागौन, प्रमोद जैन पाय, मुकेश सराफ, अक्षय अलया, नरेन्द्र जैन छोटे पहलवान श्रीश सिंघई ने मुनि श्री को नमोस्तु कर अगुवाई की। पंचायत कमेटी ने मुनि श्री से भविष्य के लिए मार्गदर्शन लिया। मुनि श्री ने इसके पूर्व डोढाघाट जैन मंदिर में दर्शन किए जहां मुनि श्री का पादप्रक्षालन कर आरती उतारी गई।


Comments

comments

अपने क्षेत्र में हो रही जैन धर्म की विभिन्न गतिविधियों सहित जैन धर्म के किसी भी कार्यक्रम, महोत्सव आदि का विस्तृत समाचार/सूचना हमें भेज सकते हैं ताकि आप द्वारा भेजी सूचना दुनिया भर में फैले जैन समुदाय के लोगों तक पहुंच सके। इसके अलावा जैन धर्म से संबंधित कोई लेख/कहानी/ कोई अदभुत जानकारी या जैन मंदिरों का विवरण एवं फोटो, किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की video ( पूजा,सामूहिक आरती,पंचकल्याणक,मंदिर प्रतिष्ठा, गुरु वंदना,गुरु भक्ति,गुरु प्रवचन ) बना कर भी हमें भेज सकते हैं। आप द्वारा भेजी कोई भी अह्म जानकारी को हम आपके नाम सहित www.jain24.com पर प्रकाशित करेंगे।
Email – jain24online@gmail.com,
Whatsapp – 07042084535